Saali Jija ka pyaar

Aishwarya-Devan-Hot-Desi-Girl-6[1]हियर इस डिफरेंट टाइप ऑफ रियल स्टोरी ऑफ मी रियल साली हेर नामे इस शुषमा बुत पेट नामे इस सुम्मी शी हद आ गोलडेन एक्सपीरियेन्स वित मे. शी हरसेल्फ साइड मे तीस. बुत शी इस वेरी शाइ गर्ल ई गिव हेर कॉन्फिडेन्स देन शी हद टोल्ड वॉट हॅपंड इन हेर लाइफ बिफोर आंड आफ्टर नाइन मंत्स तेरे आफ्टर. सो थे स्टोरी हास डिवाइडेड इंटो टू पार्ट्स: हियर ई आम नॅरेटिंग तीस स्टोरी इन हेर ओन वर्ड्स.
ई आम सुम्मी. इन मी फॅमिली वी अरे टू सिस आंड विडो मदर मी एल्डर हास गॉट मॅरीड सिन्स टू यियर्ज़. ई गॉट मॅरीड इन लास्ट थ्री मंत्स अगो. आफ्टर मॅरेज ई कम तो मी पेरेंट हाउस फर्स्ट टाइम. ओं तट वेरी दे इन थे आफ्टरनून मी मदर वाज़ स्लीपिंग इन थे ड्रॉयिंग रूम ई रीकॉल्ड सम मेमोरीस देन पोस्ट मान रंग थे बेल ई रश्ड अट थे डोर तेरे आ मेसेज फ्रॉम मी जीजू हे इस कमिंग तेरे बाइ ईव्निंग, ई टोल्ड मी मदर, शी लिसन आंड  स्लीप अगेन. ई वेंट तो मी बेड रूम आंड पुट टेलिग्रॅम ओं मी चेस्ट और पुरानी यादों मे खो गाइइ .
इट इस मंत ऑफ वेरी हेवी कोल्ड वेन मी सिस कम वित मी जीजू अट और हाउस मी मदर हास तो गो अंकल’स हाउस आस हे वाज़ इन हॉस्पिटल सो ई वाज़ अलोन ओं तट दे. ई वेल्कम्ड बोत मी सिस आंड जीजू, वी हद आ लोंग टॉक वित बोत. वी आते नाइस डिन्नर अट नाइट देन अगेन वी टॉक्ड टुगेदर. करीब 11 जीजू उपर सोने चले गये. मे आंड मी सिस वी बोत डिस्कस्ड अबौट मी मॅरेज आंड वी सेपरेटेड अट 12-30 लाते नाइट दीदी वेंट अपस्टेर्स आंड ई वेंट तो मी बेड रूम, अट अबौट 2 ई अवकेड़ फ्रॉम डीप स्लीप ई केम आउट फ्रॉम मी रूम आंड सॉ तट लाइट्स वर ओं अट अपस्टेर्स’ रूम ई स्लोली वेंट उप ई हर्ड सम नाय्स आंड गो नियर तो विंडो विच वाज़ ओपंड. दीदी और जीजू एकदम नंगे थे जीजू दीदी की चुचिया मसल रहे थे जीजू का लंड डीड़िकी छूट मई था जीजू छोड़ते थे और दीदी मुस्कुरकर उसका उत्साह बढ़ा रही थी तो कभी कभी मुँह से सिसकारिया निकलती थी दोनो चुदाई का पूरा मज़ा ले रहे थे ये देखकर मेरा दिल भी मचल गया मैने अपनी चुचि को पकड़ कर दबाया साँसे फूल गयी तब जीजू उपर लेटकर दीदी को परम सुख देने लगे दीदी भी जीजू को पकड़ कर बाहों मे कस ने लगी जीजू ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगे थे उनका पूरा लंड बाहर आता था और फ़च.. की आवाज़ के साथ दीदी की गड्राईइ छूट मे घुस जाता था.. बाप रे क्या धक्के थे. जीजू का मोटा और लंबा लंड देख कर मई तो दर गयी , सोचने लगी दीदी कैसे इतने मोटे लंड को अपनी छूट के अंदर ले रही है. दोनो बिल्कुल झदाने के करीब आगाय थे दीदी चाहुकी मई झाड़ रही हू जीजू उतावले हो के दीदी को छोड़ने लगे दीदी ने पाओ का जोड़ कर अपने जिस्म पर जीजू को दबाया की जीजू भी कस के शॉट मरते हुए झाड़ गये.
अनटाइटल्ड.प्ग
इस तरह जीजू और दीदी को छोड़ते मैने पहेली बार देखा . करीब10मिनिट तक जीजू ने दीदी को मेरे सामने छोड़ते रहे दीदी ने भी खूब मज़ा लिया अब दोनो एक दूसरे को चूम कर छोडई की खुशी का जशन माना रहे थे. ये सब देख कर मई भी बहुत गरम हो गयी थी मेरे होतो आज ही किसी को चूमना चाहते थे मनेरी दोनो चुचिया काफ़ी कड़क हो चुकी थी जैसे की बड़ी अफूसोस  कर रही हो,छूट मे से पानी निकल गया था पूरा बदन तड़पने लगा था और मेरी हालत ही बिगड़ गयी थी बिन पानी जैसे मछली तड़प ती है उस तरह मेरे भी  जिस्म काम की आग मे जल रहा था जीजू और दीदी का प्यार ख़तम हो चक्का था ज़्यादा देर रहने का अब कोई मकसद नही था मई नीचे आ गयी.और बातरूम मे घुस गयी जलते बदन को कैसे शांत करू ये सोचती थी की मेरी नज़र शवर पर पड़ी लेकिन पानी खूब ठंडा होगा फिर भी मैने खुद अपनी गाउन को हठाडि उसके हट ते ही दोनो गुलाबी चुचिया काले रंग की ब्रा मई बाहर आ गयी इस वक्त चुचिया ब्रा को फाड़ कर मुक्त होना चाहती थी मैने तुरंत ब्रा को निकल दिया हे रे मूज़े क्या हो गया अपने आपे मे रह ना सकी धीरे से दोनो चुचियो को पकड़ कर सहलाए दबाने लगी मई और गरम होगआई निपल को मसल ते ही मेरे मूह से आहे निकालने लगी हे रे हे ये क्या कर दिया जीजाजी तुमने मुझे …  हे मार जौगी थोड़ी देर तक चुचयो को दबाना सहलाना और मसालने के बाद मैने घाघरा निकल दिया क्यू की मेरी छूट मस्त हो कर फदाक रही थी और उसमे से लगातार पानी बह रहा था.वो बेचैन  गयी थी. घाघरा खोल कर सिर्फ़ पनटी मे आगाय तो छूट कहने लगी ये क्या कर रही है सुम्मी मूज़े भी नंगा कर दो मैने तुरंत पनटी निकल कर पूरा बदन नंगा कर दिया धीरे धीरे छूट पर उंगली फेरने लगी तो मीठी मीठी गुदगुदी होने लगी क्या करू मेरी समझ मई कुच्छ नही आता था अभी मेरे दिमाग़ से दोनो की चुदाई का खेल नही दूर हुआ था. सच जीजू ने खूब जाम कर दीदी को छोड़ा था इसलिए मेरी चुचिया भी कड़ी हो गयी थी. धिरेसे घूमकर शवर के पास गयी खोलकर देखा तो पानी बहुत ठंडा था बदन पा डालूं या ना डालु .जिस्म अभी भी गरम था पानी हाथ मे लेते ही बदन कपाने लगा धीरे धीरे पानी मे हाथ रख कर गरम होने की राह देख ने लगी बदन पर कैसे डालु…
जीजू
अपनी पत्नी के साथ प्यार का खेल खेल ने बाद मैने देखा तो उम्मी की आँखे मूडने लगी थी अब थोड़ी ही देर मे वो सो जाएगी मैने लंड को रुमाल से सॉफ किया और फ्रेश होने के लिए टवल को लगाकर नीचे उतरने लगा बातरूम की तरफ जब नीचे आया तो बातरूम मे से पानी गिरने की आवाज़ आ रही थी  जलती हुई रोशनी को देखकर चावक गया धीरे से बातरूम के करीब आया कौन होगा या शायद कोई भूल गया होगा ये सोचके दरवाजे के करीब पहुच गया दरवाजा खुला लगता है होल से दरवाजा खोलने लगा खुलते ही मेरी आखो को विषवास नही हुआ इतना सुंदर नज़ारा देख ने को मिलेगा. मेरी साली सुम्मी के जिस्म पर एक भी कपड़ा नही था पूरी नंगी थी मई देखता ही रहा उक्सी पीठ मेरी और थी उसको भी पता नही था के मई अंदर आ गया हू. धिरेसे दरवाजा बंद किया शवर की आवाज़ मे बाँध करने की आवाज़ डब के रह गयी मैने करीब 3 फीट की दूरिसे सुम्मी की पीठ को देखा बड़ी सनडर लग रही थी उक्से दोनो नंगे कुल्हो को देख ते ही मई मचल ने लगा क्या चूतड़ है बड़े मोटे और चौड़े. मेरे मुहमे पानी आ गया और लंड फिर से फंफना गया.
मैने टवल को जिस्म से अलग किया अब मई भी नंगा हो गया अभी भी वो पानी की बूँदो से खेल रही थी .हे रे कितनी गोरी और चिकनी हाईमैई उसकी जवानी को देख कर बेताब सा होगआया. धीरे से आयेज बढ़ा एक दो और टीन कदम का फासला पूरा कर के पीछे से दोनो हाथो को बगल के पास से आयेज करते ही मेरे हाथो मे हापुस कैरी आ गयी दीरे से स्पर्श ही किया की वो चिल्लइ कौन है और ज़ोर से मेरी बाहों मे से दूर हो गयी और घूम गयी जीजू तुम मैने उसका नंगा जिस्म देखा दोनो फल कड़े थे बड़े भी थे ब्राउन रिंग के बिछे उसकी निपुल कंपन करने लगी अपने आप को रोक ना सका और साली को फर्स्ट टाइम बहो मे ज़ोर्से दबा दिया चुचिया सिने से लग गयी सुम्मी के होतो को उपर उठाया चूमने लगा फिर उसकी आँखो को चूमा. सुम्मी के माममे उर्मई से ज़्यादा कड़क थे , साइज़ मे थोड़े छ्होटे थे, मैने उसके होंटो को चूसना शुरू कर दिया और पीछे हतले जा कर उसके चूतड़ को सहलाते हुए गांद को दबाया. और बारी बारी पूरे बदन को चूमने लगा एक हाथ दो पाओ के बीच डाल के गोरी खूबसूरत छूट को सहलाने लगा. उसकी छूट एकद्ूम सॉफ थी एक भी बाल नही था, गुलाबी दरार थी सिर्फ़. लेकिन उसमे से पानी निकल रहा था. मैने एक उंगली वाहा लगाई और फिर उसे चाट लिया.. नमकीन जूस निकल रहा था.
बार बार डोर होने की कोशिश करती रही लेकिन नाकामयाब कर दिया मैने कड़ी चुचिया दबाने लगा तो सुम्मी के मूह मे से सिसकारिया निकल ने लगी मई समाज गया और अंधादूढ़ चुचियो खड़े खड़े चूमने दबाने लगा चुचियों मे और निखार आने लगा उसका बदन गरम होने लगा वो अपने आप को संभाल ना पा रही थी की क्या करू तब मैने नीचे झुककर उसकी जाँघो पर चुबन लगाए वो सिहर उठी ये क्या कर रहे हो इतना कहेना ही था की ओह अहह… हे रे ओहो हो हो आहह री मैने उसके लोवे पॉइंट को चुबनो से भर दिया वो सिहरे ने लगी हे जीजू ये क्या किया तुमने… बिना बोले ही मैने उसे अपने हाथो मे उठाया बातरूम का दरवाजा खोलके लाइट ऑफ करके उसके बेड रूम की तरफ ले गया.
सुम्मी
अंदर आते ही मूज़े बिस्तेर लिटा दिया दरवाजा बोल्ट किया ट्यूब लाइट की रोशनी मई मेरी नंगी जवानी का रस पीने के लिए तैयार हो गये मेरे जिस्म के उपर अधिकार से अपने होत फिसलने लगे पूरा बदन एक बार नही कई बार चूमते रहे जिस्म गरम होने लगा पर मई क्या करती मेरे चुचिया और छूट पर जीजू ने पूरा दबाव दल दिया था जिसके कारण मई मस्ती से झूमने लगी थी जीजू ने जब मेरी चुचियो होल होल दबाया तो वो कड़ी हो गयी फिर झूककर उसने प्यारे निप्पल को मुहामे रख कर चूसने लगे दूसरी चुचि दूसरे हाथ से दबाते मसालते रहे की मेरा जिस्म बाग बाग हो गया अदल बदल कार्की पूरी 10 मिनिट्स तक चुचयो से खेलते रहे फिर दोनो हाथो को दोनो चुचियो पर रख कर प्यार से मसालने लगे मेरी बोलती ही बाँध हो गयी सच बहुत मज़ा आ रहा था फिर भी नखरे करती मई जान चुकी थी की आज जीजू मेरी चुदाई करके ही रहेगे . आज मेरी छूट की सील टूटने वाली है. मेरी तेज सिसकारिया मेरा तनाव सब कुच्छ देख कर ये ही चाहने लगी थी मई भी लिपट जौ और ज़ोर से चुचियो उनके सीने मे दबा लून., पर शरमाती थी उसने मेरी निगोो मे प्यार का ेज़र देखा तो कहने लगे शरमाती क्यू हो आ जाओ मेरी बहो मे मेरी रानी और मई ज़ोर्से लिपट गयी दो बदन एक दूसरे से रगड़ने लगे मेरी साँसे फूलने लगी वो तेज़ी से अपने गोल कियोर आयेज बढ़ने लगे 10 मिनिट्स तक हम दोनो ने एक दूसरे पूरा चूमा सहलया माने पहली बार शरमट शरमाते उसके लंड को पकड़ा तो बदन मे बिजिली दौड़ गयी पूरी रोमांचित होगआई .लंड क्यट हा मूसल था.. लंबा और मोटा, एकद्ूम गरम.. मेरे हथेली मे समा नही रहा था. उसे मैने पकड़ा तो उछालने लगा. पहेली बार जीजू ने कहा मेरी जान उसके साथ खेलो शरमाओ मत अब हम दोनो मे शरम कैसी.
मेरा बदन बहुत ही गरमा चक्का था पर मेरा मान ये सब करना नही चाहता था क्या करू या ना करू तब जीजू ने उपर चाड़के मेरी निपपलो को चुभालने लगे .अब मुजसे रहा नही जाता था मान और टन की लड़ाई मे आख़िर जीत टन की हुई मान हार गया जीजू को ज़ोर से अपने उपर दबाया उन्होने चुचि को छ्चोड़ के मेरी और देखा फिर मेरे होतो ने उसके होतो को चूलिया और बड़ा भूचाल मचा हम दोनोने जी भर के चुबन पं किया वो मुस्कुराए मेरे उपर से उठ कर उन्होने छूट की तरफ देखा गीली हो गयी थी अब उन्होने पाओ को चौड़ा किया तो मेरी छूट पूरी दिखाने लगी मेरी गुलाबी छूट को देखकर बोले सुम्मी सच बहुत ही चिकनी है तेरी ये छूट बिना बाल की गोरी उभरी हुई छूट के उपर झुके और मेरी साँसे तेल होगआई छूट के होतो को अपने होतो से चूमने लगे मई सिसकरने लगी तब उसकी जीभ छूट मे डाल दी मेरी तो हालत खराब हो गयी..मेरी आहे अहह्ा उफफफ्फ़ उइरीईई कमरे मे  गुज़्ने लगा हारे… हा… हा, अहह अहह जीजू ने बड़े प्यार से मेरी छूट मे चूसना चूमना जीभ से करने लगे मई दूसरी बार झाड़ गयी फिर भी उसने मूज़े नही छ्चोड़ा सर्र्ररर सर्र्र्र्र्र्र्ररर रस पीने लगे हे रे क्या कर रहे हो अब मुजसे ये सहा नही जाता आओ मेरे जीजू और अपनी ये प्यारी साली को छोड़ो जी भर के छोड़ो उसने मेरा इन्विटेशन स्वीकार लिया छूट से अलग हो गये तोड़ा उपरा किया तो मैं डांग रह गयी उसका लंड पूरा टन चक्का था बड़ा मोटा था अब ये लंड मेरी छूट मे घुसेगा ये सोच कर मई घभराई. उसने दोनो पाओ को उपर लेके चौड़ा किया मेरी छूट उसके सामने आ गयी धीरे आ[ने लंड को फैली हुई छूट के उपर टीकाया फिर लंड का मोटा सूपड़ा मेरी संकरी छूट की दरार के उपर रगड़ने लगे.. मेरी हालत और खराब होने लगी.. मई अब  आहे भरने लगी उसने धीरे धीरे मेरी छूट पर रगड़ने लगे मई उ ई मा उ ई मा करने लगीऊफ उ ईईईईईईईईईईईई रे रागना और तेज किया मेरे तो होश ही उड़ गये पागल हो गयी आहह अहह उईईईईईईईईई उईईईईईईई करने लगी.
तब उसने आसान सजाया उपर चढ़ के छूट मे सेंटर किया लंड को फिर एक धक्का ज़ोर से लगाया मेरे मुहसे चीख निकल गई हे रे मार गाइिईईईई दर्द से मेरी जान निकल गयी आँसू भी निकल आए पर लंड अंदर जा चक्का था चुचियो ज़ोर ज़ोर से दबाया मसलन से मूज़े रहट मिल्ली तो उसने दूसरा धक्का जाओ से मारा छूट मे से खून निकालने लगा मेरी तो जान निकली थी मेरी सील टूट गयी थी मई चिल्ला उठी.. जिजुउुउउ..निकल दो उसे निकल दो कहते रोने चिल्लाने लगी फिर वोही खेल खेला चुचियो को पकड़ कर बड़े ज़ोर ज़ोर्से दबाने लगे पर लंड नही निकाला दर्द तो होता था पर तोड़ा मज़ा भी मिलने लगा फिर उसने कंधे पकड़ कर लंड को ज़ोर्से दबाया मई चीख उठी पर उसने कस कस कर धक्के पर धक्के मरते ही रहे जिस तरह दीदी को छोड़ रहे थे ठीक उसी तटरह किया मूज़े पता नही चला धक्को की रफतार के साथ की लंड पूरा छूट मे समा चक्का है वो छोड़ने लगे थोड़े थोड़े अंतर के बीच धक्के मरते रहे मेरी छूट मेसए पानी नलकालने लगा .. मुझे मस्ती आ गयी.. और मई 2-3 बार झड़ी..फिर भी जीजू छोड़ते रहे दर्द धीमे धीमे हल्का हो गया थोड़ी मज़ा मिलने लगी अब वो पूरा जोश दिखाने लगे स्पीड बताई तो मई बोल पड़ी जीजू ओर तेज जीजू ओर तेज वो पूरी तरह स्पीड बताते मूज़े छोड़ने लगे.
फॅक फॅक फ़चा फॅक की सुरीली आवाज़ कमरे गूंजने लगी और तेज और तेज….फिर स्पीड बताई फ़चफछफछफच फॅक… आहह आअहह शाबाश मेरे राजा और छोड़ो और तेजज हयरे…अहः अहह अहह जीजू पूरी मस्ती से धक्के धक्के माए माए के मूज़े चुदाई मज़ा देने लगे वो उपर आगये तेज रफ़्तार कर दी मेरे उपर च्चाने लगे मेरी छूट पानी से लाबा लब हो गयी तेज तेज धक्के जीजू छोड़ते छोड़ते फलो को चूसने लगे मूज़े दुगना मज़ा आने लगा मई अपने आप मई नही थी पूरा बदन जीजू के साथ चदई का सच भोगने लगा था आवाज़ मे परिवर्तन हुआ फ़चा फ़चा के बदले पच पच पच पच की मधुर ध्वनि गुजाने लगी जीजू जी जान से छोड़ते थे पर मेरी और उनकी साँसे तेज तेज होने लगी थी अपने पर काबू नही पा रहे थे की उसने तेज धक्का ए धक्के मरते मेरे बदन पे आगाय मैने दोनो हाथो को पीछे करके चुचियो पर ज़ोर से दबाए पाओ को मोदकर पीछे ले के ज़ोर से लंड को छूट मई दबाया तो वो तेज तेज धक्के मरने लगे मेरी अहहो से कमरा गूंजा.. नही जीजू अब देर मत करो आ जाओ मेरे बदन को दबा दो उसने कस कस के 10-12 धक्के मारे और मेरे बदन को कस लिया तेज धार की पिचकारियाँ छूट मे गिरी मई भी झाड़ गयी दोनो का मिलन हुआ.
थोड़ी देर तक मेरे बदन पर सोगआय बाद मे उठ कर बोले सच सुम्मी टुमरी चुचिया और रसीली छूट का कोई जवाब नही चुचियो को ज़ोर से दबाया और छूट को देखा हाथ फेरा और कमरे मई से नंगे बाहर निकल गये. मई सोचने लगी के यही सच है
इस तरह मेरी कुवारि छूट को पहला मज़ा मेरे जीजू से मिला एक बार छोड़ कर उन्होने मूज़े साली से आधी क्या पूरी घरवाली बना दिया
आफ्टर सिक्स मंत ई गॉट मॅरीड नाउ ई आम हॅपी वित मी हज़्बेंड बुत ई कन्नोट फर्गेट मी फर्स्ट एवर चुदाई टिल टुडे…………

(Visited 6 times, 1 visits today)