चाची की अन्तर्वासना part – 2 । chachi ki antervasna by feel

जेसे ही मेरी आँख खुली तो मेने देखा की चाची अपने हाथ से मेरा लंड सहला रही थी। मेने कहां चाची ये आप क्या कर रही हो। चाची ने मेरे सर पर अपने गुलाबी होटो से चुम्मा दिया और फिर से मेरा लंड पकड़ लिया। मेने चाची का एसा रूप पहले कभी नही देखा था। उनकी आँखों मैं प्यार भरा था। मेने चाची हा हाथ हटाया और अपने लंड को अंदर डाला लाक8न वो अंदर जाने का नाम ही नही ले रहा था। फिर मेने अपना दम लेगा के लंड को अंदर डाल ही लिया। और चाची को धक्का
देकर दूर हटा दिया और उठ गया। आज चाचा को दुबई जाना था। और वो दुबई चले गये। जब आज घर पर कोई भी नही था दोपहर तक चाची और मैं एक दुसरे से नही बोले। बस उन्होंने खाना बनाया और मेने खा लिया।
दिन मैं में चाची के रूम के आगे से गुजरा तो मेरे को कुछ आवाजे आयी मेने दरवाजा खोला तो देखा की चाची रो रही है। मेने सोचा चाची को अपनी गलती का अहसास हो गया है। मेरे को उन पर दया आ गयी और मैं उन के पास जा के बोला चाची कोई बात नही हो जाता है मैं आज भी आप का उतना ही आदर करता हु। चाची ने रोते हुए मेरे को गले लगा लिया और फिर मेरी जांघो पर सर रखकर रोने लग गयी। और बोली तेरे चाचा से शादी कर के मेरी जिन्दगी बरबाद हो गयी है वो कभी भी मेरे को सेक्स को सुख नही दे पाए और कभी सेक्स भी करते है तो 1 या 2 मिनट मैं झड जाते है और मैं सारी रात तडपती रहती हु। मेरी शादी एक नपुसंक के साथ हुई है। और मेरे को कभी भी पत्नी का सुख नही मिला। और मैं परिवार की इज्जत के लिए किसी और के पास भी नही गयी। लकिन जब से मेने तुम्हारा लंड देखा तो मेरा भी मन चुदाई का सुख पाने का हो गया।
चाची की ये बात सुन के मेरे को बुरा लगा और चाचा पर गुस्सा आया। मेने चाची का सर उठाया और उन के बालो को ठीक करते हुए बोला अब मैं समझ गया आप की कोई गलती नही थी आज से मैं आप का हु। और आप को शादी के बाद के सारे सुख दूंगा। चाची ये सुन के कुश हो गयी और अपने आसुओ को पूछते हुए मेरे गले से लग गयी अब उन के बोबे मेरी छाती पर अड़ रहे थे और मेरा लंड भी खड़ा हो रहा था। चाची ने मेरे को kiss किया और kiss करते करते हम दोनों बेड पर लेट गये।

शेष कहानी अगले पार्ट 3 मैं।thanks

चाची की अन्तर्वासना part – 1 । chachi ki antervasna by feel

चाची की अन्तर्वासना part – 3 । chachi ki antervasna by feel

(Visited 3 times, 1 visits today)