Nonvage shayri 2015 by feel। शायरी adult by feel।

आज की रात ना जाना तू, सावन आया है।
ना बेटी ना अभी के अभी भाग जाना तू,
साले की नियत खराब है।

इस दर्दे दिल की शिफारिश अब करदे कोई यहा।
साले साफ़ साफ़ बोल ना दर्द दिल मैं नही लंड मैं हो रहा है।

बिना पायल के ही, बजे घुंघरू।
साली लडकी है या भूतनी।

सात समंदर पार मैं तेरे पीछे पीछे आ गयी।
साली तेरे बाप ने भी कभी समंदर देखा है क्या।

दिल मैं दर्द सा जगा है, काटा सा कही लगा है।
तो भोसड़ी के डाक्टर के पास जा हम को क्यों रो रहा है।

हिना रेखा जया और सुसमा सब की पसंद निरमा।
काश मैं भी निरमा होता तो इन चारो की पसंद तो बन ही जाता।

फिरता रहू दर बदर, मिलता नही तेरा निशान।
तो साले उस के घर जाकर पूछ दर बदर क्यों फिरता है।

कहो ना कहो ये आखे बोलती है ओ सनम ओ सनम।।
भोसड़ी के वो लडकी नही एलियन है।

परदेसी परदेसी जाना नही मुझे छोड़ के मुझे छोड़ के
अबे साले छोड़ के नही चोद के जाना है।

इश्क बिना क्या जीना यारो
इश्क बिना क्या मरना यारो।
गुड से मीठा इश्क इश्क इमली से खट्टा इश्क
हद है यार कोई मेरे को भी इश्क का टेस्ट करवा दो।

बाजीगर ओ बाजीगर तू है बड़ा जादूगर ।
साला 100% सर्कस से उठ के आया होगा।

ये दुनिया पित्तल की और बेबी डोल मैं सोने की।
साली रंडी तू धरती पर है या परियो की दुनिया मैं।

तुझ मैं रब दीखता है यारा मैं क्या करू।
तो साले उस को गंदी नजरो से मत देख और पूजा कर।
या फिर माँ चुदवाले तेरी।

तू ही सोना तू ही चांदी।
तू गुलाब का फूल, तू रेशम सी प्यारी।
तू सब से सुंदर , तू सब से न्यारी।
तू मेरी जान , और तू ही मेरी धडकन।
तेरा चेहरा जेसे चाँद, तेरी चाल है मस्तानी।
.
.
.
हद है यार एक चूत पाने के लिए बेचारे लडके को कितने झूट बोलने पड़ते है।;)

(Visited 11 times, 1 visits today)