Hot Chudai Sex Worker ke saath Delhi me

मेरा नामे किशोर है आंड मैं 21 साल का काफ़ी सेक्सी लड़का हू, मुझे पता है की कैसे किसी भाभी या लड़की को या आंटी को सॅटिस्फाइड किया जाता है, मोविए देखार सीखा हू, आज मैं आपके लिए एक बड़ी ही हॉट कहानी मस्तकाानी..कॉम पे लेके आया हू, मुझे पूरा बिसवास है की आपको ये कहानी आपके लॅंड को तैयार कर देगा.. मैं अब सीधे कहानी पे आता हू..

ये जो स्टोरी है वो दो महीने पुरानी है, मैने तब तक एक बार भी चुदाई नही काइया था, मान तो बहुत करता था पर कभी मोका नही मिला.. तो अब स्टोरी पर आता हू…. सनडे का दिन था ओर मई आराम से सो रहा था की अचानक मेरे फ्रेंड का फोन आया की उसकी डॉक्युमेंट्स की फाइल घर रह गयी है ओर वो न्यू देल्ही रेलवे स्टेशन पहुच गया है ओर उसे वो फाइल बहुत ज़रूरी चाहिए..

तो मई उसे देने गया, सुबह 11 बजे मई निकल गया था बहुत गर्मी थी तो मैने सोचा कार ही ले जाता हू.. लेकिन ट्रॅफिक मिलता इसलिए मई अपनी बिके से ही चला गया, जब मई वाहा पहुचा तो मेरा पूरा फेस पासिनो से भर गया था क्यों की गर्मी ही इतनी थी..

फिर मैने उसे फाइल दे दी और फिर वो चला गया, पर मेरा मान तो अब वापस जाने का बिल्कुल ही नही था क्यूकी गर्मी ही इतनी थी मुझे लग रहा था तोड़ा देर आराम कर लूँ.. फिर मैने सोचा आज तक मैने सेक्स तो काइया नही है तो क्यू ना आज मैं रंडी के यहा जाकर ग्ब रोड (रोड जहा पर बहुत कोठे है और अच्छा माल मिल जाता झाई) जया जाए..

पर ऐसे सूखे सूखे जाने में तो मज़ा नही आता तो मैने पहले दो बॉटल बियर पी ओर फिर मैं वाहा के लिए चल पड़ा.. ग्ब रोड नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास ही है तो मैने बिके वही पर पार्किंग है खड़ी कर दी ओर पैदल जाने की सोची..

फिर मैं वो सब कोठे के पास पहुचा यूयेसेस रोड पर पहुचते ही मैने देखा जघा जघा कोठा नंबर्स भी लिखे फिर मई 64 नंबर कोठे की और चल पड़ा क्यों की सब के मूह से सुना था की वो बहूत ही अच्छा है और वो गवर्नमेंट अप्रूव्ड कोठा है वाहा कोई दर नई है ओर देखा की नीचे हार्डवेर की शॉप्स थी और उपेर कोठे थे गर्ल्स बाल्कनी मई खड़ी होकर कस्टमर्स बुला रही थी आंड अट्रॅक्ट कर रही थी फ्लाइयिंग किस दे क्र.

क्या बतौन दोस्तों. मई जब खोता नो.. 64 जो की सबसे माशूर है पहुचा ओर जैसे ही स्टेर्स च्छड़ा तो ऐसा लगा जैसे किसी गुफा मई आ गया हू ब्कोज़ वाहा अंधेरा ही इतना था और पुरानी स्टेर्स थी.. नीचे भी एक हॉल टाइप था जिसमे कुछ 30-45 आगे की औरते बैठी थी और कस्टमर्स बुला रही थी पर मई उन्हे इग्नोर करके सीधी पर चाड़ने लगा….. वाहा बहुत से लोग बाहर आ रहे थे और उतने ही अंदर जा रहे थे……. अंदर काफ़ी भीड़ था.

फिर मई दूसरी मंज़िल पर गया जैसे ही अंदर पचुछ मैने देखा क्या जन्नत थी नीट न क्लेआम जघा आंड इट वाज़ फुल ऑफ नेपाली रंडिया और बाकी सारे इंडियन ही थे, बड़े हो हॉट लुकिंग थी सारे.. और बड़े ही हॉट हॉट ड्रेस मे.

फिर मई उधर नज़र घुमा कर एक एक लड़कियाँ देख रहा था पसंद करने क लिए और वाहा तो अप जाओगे तो रंडिया खुद ही हुंसे छिपकने लगती है वो भी 1 नही 3-3 आकर कोई हमारे गाल पर किस करेगी कोई हुमारा लॉडा उपेर से पकदेफ़ी… ऐसा होगा तो कोई भी खूद को स्वर्ग में फील करेगा …ये सही है और मेरे साथ भी यही हुआ …और मेरा तो खड़ा हो गया मेरा क्या सबका ही खड़ा हो जायगा.

उसके बाद फिर मैने देखा की एक बड़ी ही रंडी चुप छाप बैठी थी ओर दिखने में बहुत ही ज़्यादा सुंदर लग र्ही थी उसने ज़डा मेक उप भी नही काइया था ओर फिर भी बहुत सुंदर लग रही थी..

उसके बाद मैने जा कर यूयेसेस से पूछा की कितने रुपये लॉगी तो वो बोली तीन सो बीस.. फिर मैने उसे तीन सो बीस रुपये दिए ओर वो मुझे एक स्माइल पास कर के काउंटर पर चली गयी ओर मुझे कहा की अपना फोने भी जमा करा दो मैने सोचने लगा तो उसने कहा की डरो मत सब सेफ है यहा.. फिर मैने फोने जमा कर दिया ओर उसने कहा की आप उपर चलो मई 1 मीं में आती हू फिर मई उपर चला गया जहा 7-8 छोटे छोटे रूम्स बने थे..

फिर 5 मिंट बाद वो आ गयइ ओर रूम खोला ओर मुझे अंदर जाने को कहा ओर फिर खुद भी अंदर आ गयइ ओर रूम अंदर से लॉक कर दिया..
फिर वो लाते गयी ओर बोली टिप नही दोगे तो मैने कहा बेबी सब कुछ मिलेगा वेट तो करो.. फिर मैने कहा तुम मेरे कपड़े उतारो ओर मई तुम्हारे उतारता हू तो वो राज़ी हो गयी..

मई उसके चूच को भी हाथ लगा रहा था क्या चूच थे उसके कसम से यार बड़ी ही जबरदस्त टाइट थी. के तो होंगे ही ओर गोरे चीतते बहुत सॉफ्ट.. फिर मैने उसकी स्कर्ट भी उतार दी उसकी छूट बिल्कुल सॉफ थी क्लीन शेव्ड ओर बहुत गोरी थी.. फिर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू करे पहले तो टशहिर्त उतारी ओर फिर जीन्स ओर अंडरवेर उतारते ही मेरा मोटा लॉडा एक दूं से बाहर आया ओर वो देख कर बोली इतनी मोटा ओर बड़ा.. मैने कहा हाँ आज यही जायगा आपकी छूट में..वो रंडी हासणे लगी ओर फिर कॉंडम का पॅकेट निकाला ओर मेरे लॉडा पर पहना दिया..

फिर वो रंडी लाते गयी ओर मई उसके उपर आ गया.. मैने उसे एक स्मूच भी दी ओर उसके चूच भी पिए…. तब तक मेरा लॉडा बिल्कुल टाइट हो चुका था फिर उसने मेरा लॉडा पकड़ के अपनी छूट में घुसा दिया ओर मुझे गले करके लाते गयी.. फिर मई यूयेसेस छोड़ने लगा ओर धीरे धीरे करके मई तेज़ हो गया ओर हेवी हेवी स्ट्रोक्स मरने लगा वो चिल्ला रही थी “ऊवू अया उम्म्म ह्म उम्म्म्म उफफफ्फ़ अयाया छोड़ो मुझे छोड़ो ओर ज़ोर से अयाया उहह उफ़फ्फ़ अयाया” फिर मई झड़ने वाला था तो उसने अपनी छूट टाइट कर ली ओर मई झाड़ गया उसकी छूट में ही..

मेरे वीर्य झाड़ते ही उसने मुझे एक लंबी स्मूच दी.. ओर कहा उसे भी बहुत मज़ा आया… फिर हम तुरंत खड़े हो गये ओर अपने अपने कपड़े पहें लिए ओर मैने उसे प्रॉमिस काइया और उसके होत को फिर से चूम कर बोला की नेक्स्ट टाइम भी मई उसके पास ही ओँगा ओर उसे पाँच से रुपये टिप में दिए.. फिर मैने बाहर जा क्र अपना फोने ले लिया ओर घर चला गया. ये चुदाई की कहानी आप मस्तकाानी.कॉम पे पढ़ रहे थे.

(Visited 14 times, 1 visits today)