Dost ki Maa Gita Aunty ki Chudai

डियर फ्रेंड, आज मैं फिर आपको अपनी एक सच्ची कहानी मस्तकाानी..कॉम पे लेके आया हू, ये कहानी बहूत ही मस्त है, आपको ये कहानी बहूत ही हॉट लगेगी, ये मेरे फ्रेंड की मदर की चुदाई के बारे मे आपको आज मैं बतौँगा की मैने अपने फ्रेंड की मदर को कैसे छोड़ा, आपको मैं पहले भी बता चुका हू की मेरी उमर 22 साल है, मुझे भाभी गीता आंटी को छोड़ना बहूत ही अछा लगता है, मुझे ज़्यादा उमर की औरत की चुदाई का बहूत शौक है, मुझे लड़की से ज़्यादा गीता आंटी और भाभी की चुदाई मे मज़ा आता है, अब मैं सीधे कहानी पे लेके आता हू..

ये चुदाई की स्टोरी मेरे फ्रेंड की मदर का है जो मेरे घर से तीन से चार काइलामीटर की दूसरी पे रहता है.. जिस फ्रेंड की बात कर रहा हू वो फ्रेंड मेरा स्कूल फ्रेंड है इसकी मदर मुझे बचपन से आची लगती थी पर मेरे मान मे कभी कुच्छ ग़लत ख्याला नही आया समय बीतता चला गया मेरा फ्रेंड गवर्नमेंट जॉब में है उसकी पोस्टिंग पंजाबी में है वो 1 हे लड़का है अपने मदर बाप का उसके पापा सरकारी नौकरी है गीता आंटी का नाम गीता है आगे करीब चालिश की होगी फिगर 40 का बहूत ही हॉट सेक्सी एक दूं खड़ा गांद कम से कम 40 के साइज़ का शुवर न्ह्न बुत बहूत बड़ा एक दूं गोरी पेट तो मस्त मस्त जो की किसी के लॅंड को खड़ा कर दे..

एक दिन की बात है फ्रेंड घर आया अपने 2 दिन के लिए उसने मुझे फोन किया के विनय घर आ जेया मैं आज सुबह आया हू यूयेसेस समय 12 बाज रहे थे दिन के मैने कहा हा यार आता हू मैने कार निकाला और निकल पड़ा उसके घर पौच्ा बेल बजाया देखा गीता आंटी ने दरवाजा खोला उफफफफ्फ़ क्या बोलू फ्रेंड पिंक सारी में उभरे हुए बड़े बूब्स रेड लिपस्टिक मेरा तो लॅंड बमाक गया..फिर गीता आंटी ने मुझे देखा अरे विनय आओ अंदर मैं अंदर गया मैने पूछा गीता आंटी कहा राघव गीता आंटी ने कहा बेटा बस आत्म गया है बैठो

वो आता होगा मैं बैठ गया गीता आंटी ने मेरे लिए जूस लाया मैने पिया और गीता आंटी से सब बात आइ करने लगा गीता आंटी की बट्टो को कम सुन्न रहा था सिर्फ़ उनके क्लीवेज देख रहा था तभी बेल बजा राघव अंदर आया मुझसे मिला मैं उसके गले मिला और हम बात करने लगे उससे गीता आंटी को पैसे दिए गीता आंटी बाज़ार चली गयी फिर मैं और मेरा फ्रेंड राघव उसके रूम में गये बाते करने लगे

करीब 1..30 बजा बेल बाजी फ्रेंड ने ओपन किया देखा उसके दाद थे मैने नमस्ते किया उन्होने पूछा राघव मा कहा है तुम्हारी उससने कहा पापा मुमिघत मार्केट गयी है क्यू उसके पापा बोले अरे बेटा मुझे जाईपुर जाना होगा तुम्हारे चाचा को ब्रायन स्ट्रोक हुआ है ये सुन्न कर मेरे फ्रेंड ने कहा पापा मैं भी चलूँगा बीटी पापा बोले न्ह्न बेट तुम तो खुद परसो चले जाओगे तुम रहएने दो उसके पापा अपने रूम में गये और पॅकिंग कर रहे थे करीब तीन बजा अंकल ने ह्यूम आवाज़ लगाई राघव मैं और राघव बाहर गये के वैसे हे बेल बाज़ार और गीता आंटी आहा गयी अंकल बोले चलो आछा हुआ तुम आहा गयी न्ह्न तो मैं निकल जाता गीता आंटी ने पूछा कहा अंकल ने उन्हे स्टोरी बताई

फिर मैं और मेरे फ्रेंड ने अंकल को लेकर एरपोर्ट छ्होर दिया फिर घर बॅक किया हम दोनो ने..गीता आंटी ने पूछा तुम लोग क्या खाओगे हुँने कहा कुछ भी बना दो गीता आंटी ने वेग राइस और चाइनीस पनीर बनाई हम दोनो ने खाया फिर मैं और फ्रेंड बाहर घूमने निकल गये अपने कुछ स्कूल फ़्रेंड के घर गये फिर शाम 6 बाज रहा था हम लोगो ने प्लान ब नया चलते है बार में फिर हम बार में गये खूब पिया और मस्ती की फिर हम घर लौटे रात 9 बाज गया मैने कहा चल दीप कल मिलता हू उसने कहा चल ना अंदर आहा कल तो लास्ट है

फिर करीब बाद मिलूँगा फिर मैं उसके साथ उसके घर गया बेल बाज़ार गीता आंटी ने दरवाजा खोला और कहा अफ ची तुम लोगो ने पी है फ्रेंड ने कहा छ्होरो ना मदर आब हम जवान हो गये है गीता आंटी ने कहा पर मेरे लिए तो बचा हे रहेगा गढ़ा हू हास ने लगे और अंदर गये सोफे पर बैठा मेरे फ्रेंड ने कहा तू बैठ मैं वॉशरूम से अट आ हू तभी गीता आंटी आई ऑश हो क्या लग रही थी ब्लॅक कनीघट्य में ब्रा भी अंदर न्ह्न थे डड झूल रहे थे गीता आंटी ने कहा विनय चलो खाना खा लो

मैने कहा न्ह्न गीता आंटी पेट पूरा फुल है गीता आंटी तोड़ा हसी और कहा क मेरा फ्रेंड आया हम लोग कुछ देर त..व देखा फिर साढ़े दस बाज रहे थे मैने कहा चल दीप कल आता हू उसने कहा क लेकिन कल दस बजे पक्का आहा जाना कुछ शॉपिंग करना है मैं घर गया मेरी मों पूछने लगी कहा था इतने सुबा से मैने कहा मदर राघव आया है दो दिन के लिए उसके घर गया था मदर ने कहा क चल खा ले मैने कहा मदर मैने खा लिया है मुझे सोना है सुबा राघव के यहा जाना है उससे शॉपिंग करना है..फिर मैं सोने चला गया रात को नींद में गीता आंटी सपनो में आई मैने सपनो उन्हे खूब छोड़ रहा था ये देखा मैने सुबा ुआता तो देखा पूरा पैंट मेरा मदर से भरा हुआ था..

आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी ज़रूर बताएँ. आशा करता हू की आपको मेरी ये कहानी अच्छी लगी होगी, आप फिर से मस्तकाानी.कॉम पे विज़िट करें, दूसरी कहानी जल्द ही मैं आपके लिए हाज़िर होऊँगा.

Related Posts