Chudai lesbian ki : Do Auraton ko ek saath choda

tumblr_m9jiplAvS51qmgjrxo1_1280[1]

हेलो दोस्तों आपको फिर से एक नई स्टोरी मस्तकाानी..कॉम पे लेके हाजिर हू, आप सब तो जानते ही है की मेरा और मेरे पड़ोस मे रहती दो पड़ोसन कुसुसम और मोनिका का अफेर चल रहा है.. मैं वीक मैं कम से कम पाँच दिन तो सेक्स करता ही हू कभी कुसुसम क साथ तो कभी मोनिका के साथ पर अब तक मैने ऐसा प्लान बना रखा था की कुसुसम को पता नही था की मैं मोनिका के भी मज़े (चुदाई) कर रह आहू, और मोनिका को तो मैने पहले ही बोल रखा था कुसुसम क बारे मे..आपने तो मेरी पहले बाली कहानी तो मस्तकाानी पे पढ़ी होगी अगर नही तो पहले मैं आपको अपने बारे मे बता देता हू..

मैं एक पंजाबी मुंडा हू 23 साल का, देखने मे अच्छा हू, बॉडी बनाता हू, डेली जिम जाता हू.. कुसुसम जो की मेरे पड़ोस मे रहती है वो मॅरीड हाउसवाइफ है उसकी आगे करीब 34 की है, वो देखने मे काफ़ी सेक्सी है, उसकी हाइट 5’5” है, उसके बूब बड़े ही मस्त बड़े बड़े अगर साइज़ की बात करे तो 34 सी क साइज़ है.. कुसुम की गांद भी बोहुत अच्छी है.. मोनिका जो है वो विधवा वो एक सरकारी नौकरी करती है, मोनिका की हाइट 5’7” है.. वो बड़ी ही चार्मिंग और हॉट है, मोनिका कीगांद एक दूं मस्त बड़ी और गोल है.. मैं दोनो को बहूत पसंद पहले भी करता था अब तो मस्ती है मेरे दोस्त..

आपको मैं उपर ही बताया है मैं दोनो क साथ सेक्षुयल रीलेशन बनाया हुआ है.. कुसुसम के साथ मेरा अफेर करीब चार साल से चल रहा है और मोनिका से एक साल से.. अब मेरे घर के पास ही मेरा जबो लग गया है उसके कारण रोज़ सेक्स करना तोड़ा मुश्किल है.. कुसुसम के साथ रात को रुक कर सेक्स कर लेता हू, जब भी कुसुम का हज़्बेंड बाहर होता है और मोनिका क साथ तो बाहर ही उसके ऑफीस मैं या अपने दोस्त के फ्लॅट पे मज़े लेता हू.. क्या बतौन दोस्तों मुझे अब दोनो क साथ एक साथ चुदाई करना था मैने मोनिका को तो समझा दिया पर अब कुसुसम को मैं कैसे बतौ इसकी प्लॅनिंग करनी थी.. एक दिन की बात है कुसुसम को मैने रात को उसके घर की च्चत पे एक कब्ले ले कर बुलाया करीब बारह बजे रात को.. कुसुसम का हज़्बेंड और उसका लड़का और लड़की सब ही नीचे फ्ल्लोर पर ही सो रहे त.. हू निघट्य पहने हुए थी मैने उसके आते ही उसे चूमने लगा और तुरंत ही उसकी निघट्य खोल दी उसने अंदर कुछ नही पहना था यानी का ना तो पनटी ना तो ब्रा..

फिर मैने भी अपने कॅप्री और जंघिया निकाल के अपना लंड उसके मूह मे दे दिया फिर उसको खड़ा कर के उसके पीछे से उसकी छूट मे लॅंड घुसा दिया.. करीब आढ़ने गाँते के बाद मैं उसकी छूट मे ही सारा वीर्य निकाल दिया.. फिर हम सीधी पे कंबल ओढ़ कर ऐसे ही बिना कपड़ो के बैठ कर किस करने लगे और बूब प्रेस कर रहे थे.. थोड़ी देर बाद मैने उसे मेरे और मोनिका के बारे मैं बताया और ये भी कहा की मुझे दोनो को सता एक साथ छोड़नी है.. वो जैसे ही उसका नाम सुनी वो तुरंत ही चौक गई और फिर मुझे माना कर दिया.. फिर थोड़ी देर तक समझने के बाद वो राज़ी हो गई.. उसके दो दिन बाद की बात है उनके घर पर कोई नही था तब हुँने प्लान किया और ऑफीस से मैने च्छुटी ले ली..

मॉर्निंग के करीब 9 बजे मैं उनके घर गया.. मैने दोनो को अपने छूट की क्लीन शेव करने के लिए कह दिया था और मॉर्निंग मे नहा धो क सिर्फ़ नाइट गाउन पहने के रखने को बोला था.. मैं जब वाहा पहुच और दरवाज़ा बाँध कर के मोनिका और कुसुम को लिविंग रूम मैं बुलाया.. वो दोनो को बहुत ही शर्म आ रही थी, मोनिका और कुसुम अपने आप को भी नही देख रहे थे..

मैं मोनिका को मेरे बगल मैं और कुसुसम को मेरी गोद मैं बिताया.. फिर मैं मोनिका को किस करने लगा और कुसुसम के बूब दबाने लगा.. थोड़ी देर बाद उनकी जगह चेंज करके मोनिका क गांद क साथ खेलते हुए कुसुसम को किस करने लगा..

उसके बाद मैं दोनो को कपड़े उतारने बोला दो एकद्ूम नंगी हो कर मेरे सामने खड़ी थी फिर मैने अपने फोन का कॅमरा ओं कर क रेकॉर्ड करने लगा और उन दोनो को एक दूसरे को किस करने बोल.. क्या व्यू था फ्रेंड्स मेरा लंड तो एकद्ूम खड़ा हो गया था ये देख कर.. दोनो के बूब एक दूसरे से टकरा रहे थे उनकी ज़बान एक दूसरे क मूह मैं थी.. मैं वियाग्रा की गोली का इंतज़ाम कर रखा था मैने अपने कपड़े निकाले और एक गोली ले ली.. फिर मैं अपने लंड क साथ खेल रहा था और उनको एक दूसरे की छूट छत ने को बोला.. वो दोनो 69 की पोज़िशन मैं आ गयी और छूट चाटने लगी..

फिर मैं अपने लॉडा पे तोड़ा क्रीम लगाया.. और जेया के कुसुसम की गांद मैं पेल दिया.. मैने उनको चाटने का काम जारी रखने को बोला हू लोग एक दूसरे की छूट चाट रही थी और मैं कुसुसम की गांद मार रहा था..

थोड़ी देर बाद मैने मोनिका की गांद मारना शुरू किया.. ये सब 15 मिनिट तक चला.. फिर मैने दोनो को घोड़ी बनाया और बारी बारी से दोनो की छूट पेलने लगा.. पचीस मिनिट के बाद फिर से उनकी गांद पे टूट पड़ा मैं.. टॅबलेट का असर की वजह से मैं झड़ने का नाम ही नही ले रहा था.. ऐसे दोनो को करीब दो घंटे छोड़ता रहा..

थोड़ी डियर बाद मैं झाड़ गया.. हम तीनो लोग एकद्ूम तक चुके थे क्यों की मैने खूब चुदाई की थी और एसए ही नंगे एक साथ सो गये.. जब दोपहर को सब उठे तो सबने डोमिनोस से पिज़्ज़ा मंगवा क खाया.. फिर मोनिका अपने जॉब पे चली गयी.. अब मैं और कुसुसम अकेले ही थे तो मैने फिर से उसे नंगा किया और उसके पूरे बदन को अपनी ज़ुबान से चाटने लगा.. फिर मैने उसके बूब चूसना सुहृ किया.. और उसका दूध पीने लगा.. एक बात तो है दोस्तो बूब से दूध पीने का मज़ा कुछ और ही होता है..

फिर मैने उन दोनो को बेड पे लिटाया औ उसको मिशनरी स्टाइल मैं ला कर उसकी छूट मैं अपना लॅंड उसके छूट डाल दिया.. सुबह की चुदाई की वजह से उसकी छूट और गांद एकद्ूम हल्की हो चुकी थी पर मैने उसको छोड़ने का काम चालू रखा.. पूरा रूम हमारी चुदाई फॅक फॅक की आवाज़ से और कुसुसम की सिसकारियो से गूँज रहा था.. करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैं उसकी छूट मैं ही झाड़ गया.. फिर मैने उसको करीब दस मिनिट तक किस किया और उसके बूब चूसने लगा फिर उसके बड़े बड़े बूब पे अपना सिर रखे के सो गया. दोस्तों आपको मेरी ये कहानी कैसे लगी जाऊर बताए प्लीज़

(Visited 21 times, 1 visits today)