शादीशुदा बहन के साथ की चूत चुदाई लीला

हैलो फ्रेंड्स.. समय खराब करे बिना मैं अपनी कहानी पर आता हूँ.. वैसे भी मेरे बारे में जान कर भी आप लोग क्या करेंगे।
मैं आपको सीधे अपनी बहन के बारे में बताता हूँ, यह कहानी मेरे और मेरी बड़ी बहन के बीच में हुए अनुभव की है।
मेरी उम्र 25 साल है और मेरी बहन की 28 साल, मेरी बहन की शादी हुए करीब दो साल हो गए हैं।
मेरी बहन देखने में एकदम माल है.. शादी से पूर्व भी मोहल्ले के सभी लौंडे मेरी बहन को चोदना चाहते थे।
मेरी बहन का फिगर 36-25-38 का है। उसके अभी कोई बच्चा नहीं हुआ है।
मैं अपनी बहन को उसकी शादी से पहले से ही चोदना चाहता था.. पर कभी कोई मौका ही नहीं मिला। जब गली के सब लौंडे मज़े ले सकते हैं तो हम घर में ही क्यों नहीं ले सकते..
मैं जानता था कि मेरी बहन का चक्कर बहुत सारे लड़कों के साथ चल रहा था.. जिनमें से कुछ हमारे एरिया के गुंडे टाइप लड़के भी थे। वो आते-जाते भी मेरी बड़ी बहन के साथ मज़े लिया करते थे और मेरी बहन भी उनकी हरकतों में मज़े लिया करती थे।
मैंने कई बार अपनी बहन को लड़कों के साथ मॉल में भी देखा था.. जिसे देख कर मुझे बहुत गुस्सा आता था। फिर मैंने भी सोच लिया कि जब सारा मोहल्ला मेरी माल किस्म की बहन का मज़ा ले सकता है.. तो मैं क्यों नहीं..
पर मैं डरता था कि कहीं मेरे कुछ करने से मेरी बहन मेरी शिकायत मम्मी या पापा से ना कर दे।
फिर एक दिन जब मेरी बहन शादी के बाद हमारे घर आई हुई थी.. तो मुझे वो मौका मिल ही गया.. जिसकी तलाश में मैं बहुत सालों से था।
उस दिन मम्मी और पापा किसी काम से बाहर गए हुए थे। घर में मेरे और मेरी बहन के अलावा और कोई नहीं था।
मेरी बहन करीब दोपहर के दो बजे नहाने के लिए बाथरूम में गई हुई थी और रोज़ की तरह वो आज भी अपने कपड़े बाहर ही छोड़ गई थी। जब वो नहा कर बाहर आने ही वाली थी.. तो उसने मेरे को आवाज़ लगाई और अपने कपड़े देने के लिए कहा।
पर मैंने कोई जवाब नहीं दिया जिस पर मेरी बहन को गुस्सा आ गया और वो बिना कपड़ों के ही बाहर आ गई।
मैं तो अपने कान में इयरफोन की लीड लगा कर मस्त गाने सुन रहा था।
इतने में ही मेरी बहन मेरे कमरे में आ गई जहाँ उसके कपड़े भी रखे थे।
मैं उसको इस हालत में बिना कपड़ों के देख कर खुद पर काबू नहीं रख पाया और अचानक ही खड़ा हो गया।
मेरी बहन मुझ पर चिल्ला रही थी.. पर मैं तो उसके बड़े-बड़े चूचों को देख कर होश ही खो बैठा था।
फिर वो बोली- देखता क्या है.. कपड़े दे मेरे!
पर मैंने कपड़े देने तो दूर उसकी तरफ बढ़ने लगा.. जिससे देख कर मेरी बहन थोड़ा डरने लगी और बोली- तुम ये क्या कर रहे हो?
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
मैं बिना कुछ बोले उसकी तरफ बढ़ता रहा और जाकर उसके चूचों को दबाने लगा। जिससे उसने मुझे धक्का दे दिया।
फिर मैंने गुस्से में बोल दिया- जब सारे मोहल्ले से चुदती फिरती है.. तब तो तुझे कोई परेशानी नहीं होती.. आज मैंने थोड़ा सा छू क्या लिया.. बड़ी सती सावित्री बन रही है।
इस बात को सुन कर मेरी बहन को भी गुस्सा आ गया और बोली- तू अपनी बहन को चोद कर बहनचोद बनना चाहता है.. तो ठीक है.. ले कर ले.. जो तुझे करना है।
फिर यह सुनकर तो मुझे भी हरी झंडी मिल गई, इतने में ही मैंने अपने होंठ अपनी बहन के होंठों से लगा दिए।
अब क्या था.. अब तो मेरी बहन भी मेरा साथ पूरी एक रंडी की तरह रह कर देने लगी।
हम दोनों एक-दूसरे के होंठ और जीभ चूस रहे थे।
फिर मैंने अपनी बहन को अपनी गोद में उठा कर बिस्तर पर पटक दिया, मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए।
मेरे लण्ड को देख कर मेरी बहन बोली- अगर मुझे पता होता कि घर में ही इतना मस्त लण्ड है.. तो मैं भला कभी भी मोहल्ले के लड़कों से क्यों चुदती फिरती।
मेरा लण्ड सात इंच लंबा और तीन इंच मोटा है।
अब हम दोनों 69 की हालत में आ गए थे.. मैं अपनी बहन की मस्त चूत चूस रहा था और वो मेरे लण्ड को अपने मुँह में ले कर चूस रही थी।
करीब दस मिनट तक चुसाई करने के बाद मैंने अपनी बहन को सीधा करके बिस्तर पर लिटा दिया।
अब मेरी बहन कहने लगी- अब मुझे और मत तड़पा.. मेरी चूत को अपने बड़े लण्ड से फाड़ दे..
फिर मैंने अपनी बहन की टाँगों को अपने कंधों पर रख लिए और अपने लण्ड को धीरे-धीरे अपनी बहन की चूत पर रगड़ने लगा।
मैंने एक ही धक्के में अपना आधा लण्ड अपनी बहन की चूत में उतार दिया.. जिससे वो बहुत ज़ोर से चिल्लाने लगी, उसके मुँह को अपने होंठों से बंद कर दिया।
फिर धीरे-धीरे मेरी बहन को भी मज़ा आने लगा, अब वो अपनी गाण्ड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी। अब वो बड़ी ही मादक आवाज़ करने लगी थी.. इससे मेरा जोश और भी बढ़ गया और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।
लगभग 20 मिनट की धकापेल चुदाई में मेरी बहन दो बार झड़ चुकी थी और मैं भी झड़ने वाला था।
अब मैंने अपनी बहन से पूछा- अन्दर ही निकाल दूँ या बाहर?
इस पर मेरी बहन बोली- अन्दर ही झाड़ दे.. अब तो तूने अपनी बहन को चोद ही लिया है.. क्या फ़र्क पड़ता है.. अब तू मामा बने या बाप..
उसके बाद मम्मी-पापा के आने के पहले हमने कई बार जम कर चुदाई करी और फिर एक साथ नहाए भी..
अब जब भी मौका मिलता है.. तो मैं और मेरी बहन खूब मज़े करते हैं।
अपने ईमेल लिखिएगा.. पर मेरी बहन की चूत न मांगिएगा।
(Visited 6 times, 2 visits today)