सामूहिक चुदाई का सुख-1

यह कहानी किसी और ने मुझे भेजी है, आप उसी के शब्दों में इस कहानी का आनन्द लें।
मेरा नाम विभा है, मेरे पति नरेन एक इंजीनियरिंग कंपनी में अच्छे पद पर हैं।

हम लोग वैसे तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं, पर पिछले 15 सालों से नई दिल्ली में रह रहे हैं।
नरेन 40 साल के हैं, पर 35 से ज़्यादा नहीं दिखते, 5’8″ कद है, हल्के से मोटे हैं, गोरे और सुंदर हैं..।
मेरी उम्र 35 साल है, पर 30 साल की दिखती हूँ, 5’3″ कद है, जिस्म 36-27-36 है।
हम दोनों यहाँ पर अपने कुछ दोस्तों के साथ बीवियों को आपस में अदल-बदल करके चुदाई करते हैं।
इस बीवियों की अदला-बदली करके चुदाई में दो जोड़े अपने-अपने साथी बदल कर एक-दूसरे को चोदते हैं, एक की पत्नी दूसरे आदमी के साथ चुदती है और उसका पति किसी और की पत्नी को चोदता है।
हम नहीं जानते कि यहाँ पर हमारे अलावा और कितने जोड़े ऐसे अपनी-अपनी बीवियों को अदल-बदल कर चुदाई करते हैं। मेरे ख्याल से इसके लिए मन तो बहुतों का होता है, और अगर अवसर मिले तो शायद इसका आनन्द भी उठाएँ।
हम लोग फ़िलहाल अपने 4 नज़दीकी मित्र-जोड़ों के साथ बीवियों की अदला-बदली करके चुदाई करते हैं और करवाते हैं। अक्सर हममें से दो-तीन जोड़े ही एक साथ हो पाते हैं, पर कभी-कभार किसी विशिष्ट अवसर पर, जब सबको समय हो, हम पाँचों मिलते हैं, अदला-बदली करके ही चुदाई करते हैं।
हालाँकि हमारा उद्देश्य एक-दूसरे के जीवन साथी के साथ चुदाई का आनन्द उठाना होता है, पर इस में हमारी प्रगाढ़ मित्रता, यानि कि दावतें, पिकनिक, पार्टियाँ और दूसरे के साथी के साथ हँसी-मज़ाक और सबके सामने एक-दूसरे के कपड़ों के ऊपर से जो मर्ज़ी आए, करके मज़ा लेना भी शामिल हैं।
इनके साथ दूसरे के साथी के साथ अकेले फिल्म देखने जाना, बाहर खाना खाना और फिर उसे अपने साथ चुदाई के लिए घर लाना भी शामिल होता है।
जब मेरे पति किसी और की पत्नी के साथ यही सब कर रहे हों, तो मेरे द्वारा किसी और के साथ यही सब करना अपने आप में बहुत ही रोमांटिक है।
हम 2-3 जोड़ियाँ कभी-कभी एक साथ दूसरे शहर घूमने जाते हैं तो मैं दूसरे के पति के साथ ही अलग कमरे में रहती हूँ, जैसे कि उन दिनों के लिए हमारे पति वही हों !
हमने अपनी इस जिंदगी की शुरुआत कैसे की, अब मैं यह बताना चाहूँगी।
मुझे लम्बे अरसे से यह शक था कि नरेन दूसरी औरतों को चोदने का बहुत इच्छुक था, पर कोई 5-6 साल पहले उसने कहना शुरू किया कि विभा, उमर बहुत छोटी होती है और हमें यह भी अनुभव करना चाहिए कि दूसरों के साथ चुदाई करने में कैसा मज़ा आता है क्योंकि हम दोनों ने विवाह के पहले किसी से चुदाई नहीं की थी।
वो किसी दूसरी स्त्री के साथ चुदाई का लुत्फ़ उठाना चाहता था और मुझे भी उत्साहित करता था कि मैं भी किसी दूसरे मर्द के साथ चुदाई का आनन्द उठाऊँ।
इन बातों के दौर से हमारी चुदाई में आनन्द और बढ़ गया था।
जब दोस्तों को अपने घर में बुलाते तो नरेन रसोई में मुझसे आकर बताता कि आज उसे किस दोस्त की बीवी को चोदने का मन कर रहा है। वह मुझसे भी पूछता कि आज मेरा मन किस दोस्त से चुदवाने को कर रहा है।
ये सब बातें करके हमें बड़ा मज़ा आने लगा और हम सबके जाने के बाद उस दोस्त और उसकी बीबी का नाम लेकर एक-दूसरे को चोदने लगते थे।
कुछ दिनों तक बिस्तर में चोदते समय इस बारे में बातें करते-करते मेरी भी हिम्मत बढ़ती गई और मैं दूसरे जोड़े के साथ काल्पनिक अदला-बदली चुदाई के लिए तैयार हो गई। फिर हमने ढूंढना शुरू किया और हमारी नज़र पंकज और ज़न्नत पर पड़ी जो हमारे ही पड़ोस में कुछ ही दूरी पर रहते थे।
इन कुछ सालों में हमारी उनसे दोस्ती काफ़ी गहरी हो गई है। ये दोनों भी लगभग हमारी ही उमर के थे। पंकज 38 साल का था और ज़न्नत 32 की, ज़न्नत का शरीर बहुत सुंदर (32-26-38) था। वो काफ़ी पतली थी और नयन-नक्स तीखे थे।
हम दोनों उनके स्वभाव और सुंदरता से काफ़ी प्रभावित हुए थे।
अपनी चुदाई के समय अब हम पंकज और ज़न्नत के बारे में सोचने लगे और उनके साथ चुदाई की कल्पना करने लगे।
जब भी नरेन मुझे चोदता था तो मुझसे यही कहता कि मेरी चूत कितनी रसीली और सुंदर है और मैं बड़ी आसानी से पंकज को अपने साथ चुदाई करने के लिए पटा सकती हूँ।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
फिर मैंने भी नरेन से कहा कि उसका लंड इतना अच्छा है कि ज़न्नत भी उसके लंड का स्वाद लेने के लिए आसानी से आतुर हो जाएगी।
वो मुझसे पूछता कि आज मुझे किसके लंड से चुदवाना है, उसके या पंकज के…! मैं भी नरेन से पूछती कि आज उसे किसकी चूत चोदने का मन कर रहा है, मेरी या ज़न्नत की…!
नरेन ने महसूस किया कि मुझे इन बातों से बहुत मज़ा आता है और मैं खूब उत्तेजित होकर नरेन से चुदवाने लगी थी।
एक दिन तो नरेन चुदाई के दौरान मुझसे पूछने लगा- विभा, बताओ तो सही, अभी तुम्हारी चूत के अन्दर किसका लंड घुसा है?
मैं भी बिना ज़्यादा हिचक के बोली- नरेन, इस समय तो मेरी चूत पंकज के लंड का मज़ा ले रही है।
जल्द ही मैंने भी नरेन से पूछा- नरेन, तुम्हारा लंड किसकी चूत में है?
तो नरेन बड़े मज़े से बोला- ज़न्नत की ज़न्नत में है।
नरेन ने कुछ कहा नहीं पर यह ज़रूर महसूस किया कि जब मैं पंकज के साथ चुदाई की कल्पना करती हूँ, तो मेरा चुदाई में उत्साह और बढ़ जाता है और मैं नरेन से खूब ज़ोर से चुदवाती हूँ।
फिर एक दिन मैंने उससे कहा- तुम मुझे चोदते वक़्त यह कल्पना करते हो कि तुम ज़न्नत को चोद रहे हो, तो क्यों नहीं चोदते समय मुझे ज़न्नत कहकर ही पुकारो?
काफ़ी दिनों तक रोज़ हम लोग इस काल्पनिक दुनिया में एक-दूसरे को पंकज और ज़न्नत के नाम से चोदते रहे। मैं उसे पंकज पुकारती और वो मुझे ज़न्नत।
फिर लगभग आज से 5 साल पहले, एक दिन अचानक अंजाने में ही, पंकज और ज़न्नत के साथ यह कल्पना हक़ीकत में बदल गई।
एक दिन पंकज और ज़न्नत ने हमें रात को डिनर पर बुलाया।
हम उनके घर गए और वहाँ नरेन और पंकज ने साथ बैठ कर थोड़ी व्हिस्की पी। मैंने और ज़न्नत ने भी थोड़ी सी ली।
तभी एकाएक पंकज ब्लू-फ़िल्मों के बारे में बात करने लगा, चूँकि उसे भी पता था कि हम दोनों ऐसी पिक्चर अक्सर देखा करते हैं।
पंकज ने नरेन से पूछा- क्या तुमने कभी कोई इंडियन ब्लू-फिल्म देखी है? ऐसी फिल्म देखने में बड़ा मज़ा आता है।
नरेन ने पंकज को बताया- अब ऐसी फ़िल्में अब धीरे-धीरे सभी जगह पर मिलने लगी हैं और हमने कुछ देखी भी हैं। ये ज़्यादा मज़ेदार होती हैं क्यूंकि साड़ी और पेटीकोट उठा कर भारतीय औरतों को अलग-अलग लोगों से अपनी ज़न्नत चुदवाते देखने में अलग ही आनन्द आता है। जब भारतीय औरतें अपनी सुंदर सा मुँह खोल कर किसी का लंड चूसती हैं तो अपना लंड तो खड़ा हो जाता है।
नरेन ने पंकज को बताया- हमारी कार में एक वीडियो सीडी पड़ी है जो हम वापस लौटने वाले थे।
उसने कहा- अगर तुम चाहो तो उसे वापस करने के पहले देख सकते हो !
क्योंकि ज़न्नत ने भी कभी भारतीय ब्लू-फिल्म नहीं देखी थी, पंकज ने उसे सुझाव दिया कि वे दोनों उसे अपने बेडरूम में देख लेंगे और हमारी वापसी पर लौटा देंगे।
नरेन ने उन्हें उत्साहित करते हुए कहा- हम दोनों तब तक कोई दूसरी हिन्दी फिल्म वही ड्राइंग-रूम में देखेंगे।
पर पंकज ने कहा- यह तो बदतमीज़ी होगी और चूँकि हम सब व्यस्क हैं, हम सब को ब्लू-फिल्म का आनन्द एक साथ उठाना चाहिए। हालाँकि नरेन और मुझे इसमें कोई इतराज़ नहीं था, पर ज़न्नत कुछ शंका में लग रही थी।
उसके बाद ज़न्नत के साथ मैं रसोई में गई और उसे हिम्मत दी कि नज़दीकी दोस्तों के साथ ऐसी फिल्म देखने में कोई हर्ज़ नहीं है।
हम रसोई से कुछ और ड्रिंक्स लेकर आए।
कुछ समय बाद ज़न्नत ने हल्के से कह ही दिया कि उसे फिल्म देखने में कोई ऐतराज़ नहीं है।
नरेन बाहर जाकर कार से सीडी निकाल लाया जिसका नाम ‘बॉम्बे-फैंटेसी’ था।
हम सब उनके बेडरूम में चले गए। मैं और नरेन सोफे पर बैठ गए और पंकज और ज़न्नत अपने बिस्तर पर।
पंकज ने लाइट बंद करके फिल्म चालू कर दी। हम लोगों ने ये फिल्म देखी हुई थी, जिसमें दो मर्द और दो औरत के एक ही बिस्तर पर चुदाई की कहानी थी।
हम शान्ति से सोफे पर बैठ कर पंकज और ज़न्नत के भाव पढ़़ने की कोशिश कर रहे थे।
कमरे में टीवी की रोशनी के अलावा अंधेरा था।
कुछ देर में हमें लगा कि पंकज और ज़न्नत गर्म हो रहे थे और उन्होंने अपने आप को कम्बल से ढक लिया था। ऐसा लग रहा था कि जैसे पंकज, ज़न्नत के साथ चुदाई से पूर्व की हरकतों में मशगूल हो गया था। कहानी जारी रहेगी।