रिया को चोदा उसके घर में

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम है अनुराग है और में असम का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 23 साल और में पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियाँ पढ़कर बहुत मज़े कर रहा हूँ और वो सब करना मुझे बहुत अच्छा लगता है और सेक्स में मेरी रूचि बचपन से ही है.

दोस्तों यह मेरी आज की कहानी तब की है जब में एक कॉलेज में अपनी पढ़ाई कर रहा था और उस समय मेरे कॉलेज में एक बहुत सुंदर लड़की थी और उसका नाम रिया था वो एक मॉडल थी और साथ ही वो मेरे कॉलेज से अपनी पढ़ाई भी कर रही थी.

दोस्तों वो दिखने में बहुत सुंदर और हॉट सेक्सी थी, उसके बूब्स बहुत बड़े, गांड का आकार भी एकदम ठीक, गोल सा चेहरा, बड़ी बड़ी काली आखें, गुलाबी होंठ और वो एकदम गोरी थी उसके फिगर का आकार मुझे पता नहीं है, लेकिन सब कुछ बिल्कुल सही आकार का था और में उसे मन ही मन में बहुत पसंद करता था, लेकिन मैंने उसे कभी कुछ नहीं कहा और मेरी कभी उससे बात करने की हिम्मत नहीं होती थी, लेकिन उसे अपने सामने देखकर उससे बात करने की इच्छा बहुत होती थी और वैसे भी उसका एक बॉयफ्रेंड था जिसके साथ वो हर कभी इधर उधर घूमती और मुझे उन्हें देखकर हमेशा ऐसा लगता था कि वो दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश थे.

एक दिन मैंने कॉलेज में पहुंचकर थोड़ी हिम्मत करके उससे बात करनी शुरू की, मैंने उससे उसका नाम पूछा और अपना नाम बताया हमारे बीच और भी बहुत कुछ इधर उधर की बातें हुई और मुझे उसकी आवाज सुनकर बहुत अच्छा लगा वो भी बहुत अच्छे से मेरे साथ बात करने लगी और मेरी हर बात का हंसकर जवाब देने लगी और ऐसे ही उस दिन के बाद से हमारी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई. मैंने उसका फोन नंबर ले लिया और हम एक दूसरे को मैसेज करने लगे हमने फोन पर बातें करना शुरू कर दिया और धीरे धीरे हमारी दोस्ती कुछ ज्यादा ही बढ़ गयी और एक दिन मुझे पता चला कि उसका बॉयफ्रेंड बहुत ही शकीले स्वभाव का है और वो हमेशा दूसरे लड़को को लेकर रिया के साथ हर कभी झगड़ा करता था.

अब हम कभी कभी फिल्म देखने जाने लगे थे और वो तभी से मेरी तरफ आकर्षित होने लगी थी, कभी कभी गलती से मेरा हाथ उसके बूब्स पर लग जाता था, लेकिन वो मुझसे बिना कुछ कहे मेरी तरफ मुस्कुरा देती थी तभी में समझ गया था कि उसके साथ कुछ तो जरुर हो सकता है और अब में भी जानबूझ कर उसके ज़्यादा करीब आने लगा था.

एक दिन मैंने उससे कहा कि अगर में तुम्हारा बॉयफ्रेंड होता तो में तुम्हे बहुत प्यार करता और में कभी भी तुमसे झगड़ा नहीं करता, क्योंकि तुम बहुत अच्छी हो, सुंदर हो और तुम्हारा स्वभाव भी बहुत अच्छा है तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो और वो मेरी यह बात सुनकर तरफ देखकर ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी, लेकिन वो मुझसे एक भी शब्द नहीं बोली. एक दिन उसने मुझे अपने घर पर बुला लिया और में भी उसकी दोस्त की एक नोट बुक उसे देने के लिए उसके घर पर पहुंच गया.

मैंने देखा कि वो उस वक़्त उन कपड़ो में बहुत सेक्सी लग रही थी और उस समय उसके घर पर वो और उसकी माँ थी. फिर में उसके घर पर थोड़ी देर बैठा और फिर आंटी जी मेरे लिए खाने के लिए कुछ लेकर आई और रखकर दूसरे कमरे में चली गई और तब रिया और में दोनों एक दूसरे से बातें करने लगे, कुछ देर बाद आंटी जी दोबारा आई.

फिर वो हम दोनों से बोली कि वो बाजार से कुछ लाना भूल गई है इसलिए उन्हें दोबारा बाजार जाना पड़ेगा और वो इतना कहकर चली गयी और अब हम दोनों फिर से बातें करने लगे. फिर कुछ देर बाद रिया ने मेरे फोन से एक फोटो लेने के लिए मुझसे मेरा फोन ले लिया और वो फोटो लेने लगी. तभी उसने फोन गेलरी में चेक किया, लेकिन वहां पर उसे एक पॉर्न वीडियो पर नज़र आ गया और उसने मुझसे हल्का सा मुस्कुराते हुए पूछा कि क्यों क्या तुम यह सब भी देखते हो? दोस्तों में उसकी शैतानी हंसी देखकर समझ चुका था कि इसके मन में कुछ ना कुछ तो जरुर चल रहा है और फिर मैंने उससे कहा कि हाँ, लेकिन कभी कभी.

तभी वो मेरा जवाब सुनकर अपनी जगह से उठकर मेरे पास आई और बैठ गई वो अब मुझसे पूछने लगी कि तुम्हे मेरा फिगर कैसा लगता है? तो मैंने उससे कहा कि बहुत हॉट, सेक्सी हो तुमसे बढ़कर कोई भी नहीं है. फिर वो मेरी यह बात सुनकर मुझे एक नॉटी स्माइल देकर तुरंत उठ गई.

फिर मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ? तब उसने मुझसे कहा कि मुझे बहुत भूख लगी है में किचन में कुछ खाने का जुगाड़ देखती हूँ और वो मुझसे इतना कहकर चली गयी, फिर कुछ देर बाद उसने मुझे वहीं से आवाज देकर मुझे भी किचन में बुला लिया. में तुरंत उसकी आवाज सुनकर किचन में गया और वहां पर पहुंचते ही उसने मुझसे कहा कि वो ऊपर वाले चेंबर में बिस्किट्स रखे हुए है तुम वो मुझे उतारकर दे दो ना. अब में तभी वहां गया और उतारना चाहा, लेकिन थोड़ी समस्या आ रही थी.

दोस्तों मैंने देखा कि वो ऊँची जगह पर खड़ी होकर कुछ बर्तन धो रही थी और में ठीक उसके पीछे खड़ा होकर वो डिब्बा उतार रहा था जिसकी वजह से मेरा लंड उसके कूल्हों पर लग गया वो एकदम से तनकर खड़ा हो गया और मुझे लगा कि वो शायद मुझसे कुछ कहेगी, लेकिन वो चुपचाप थी इसलिए में सही मौका देखकर और भी ज़्यादा अपना लंड उसके कूल्हों पर रगड़ने लगा मेरे ऐसा करने की वजह से उसकी साँसे अब धीरे धीरे बहुत तेज़ होने लगी थी. फिर कुछ देर बाद वो पलट गई और अचानक से उसने अपने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया, जिससे में तो एकदम चकित हो गया.

फिर उसने मुझे लिप किस किया और हम दोनों करीब 15 मिनट तक एक दूसरे के होंठो को चूमते चाटते रहे. फिर हम उसके रूम पर चले गये और वहां पर मैंने उसका टॉप और स्कर्ट को खोल दिया और देखा कि वो उस समय लाल कलर की ब्रा और लाल कलर की पेंटी पहनी हुई थी. उसके उस गोरे सेक्सी गदराए बदन पर वो लाल रंग बहुत अच्छा लग रहा था.

अब में ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को पूरी तरह से जोश में आकर दबाने, मसलने लगा जिससे वो गरम होकर मोन करने लगी और कुछ देर बाद मैंने उसकी ब्रा को खोल दिया और फिर तुरंत उसकी पेंटी को भी उतार दिया. अब वो मेरे सामने एकदम नंगी थी. अब में उसके बूब्स को चूसने लगा, निप्पल को काटने लगा, जिसकी वजह से उसे बहुत मज़ा आ रहा था. में एक हाथ से उसका एक बूब्स दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी गीली, कामुक चूत को धीरे धीरे रगड़ रहा था, जिससे वो एकदम गरम हो गयी थी और उसकी चूत अब बहुत गीली हो चुकी थी.

फिर कुछ देर बाद में नीचे गया और देखा तो उसकी चूत बिल्कुल साफ थी और उस पर एक भी बाल नहीं था. में अब बिल्कुल पागलों की तरह उसकी चूत को चाटने, चूसने लगा अपने एक हाथ से चूत को खोलकर अपनी जीभ को चूत की गहराई में डालने लगा. अब वो लगातार मोन कर रही थी उऊईईईईईई उुउउहहह्ह्हह्ह् अनुराग हाँ थोड़ा और अंदर डालो वाह मज़ा आ गया तुम बहुत अच्छे हो में तुमसे बहुत प्यार करती हूँ अनुराग उहहउह्ह्ह और वो एकदम पागल हो चुकी थी और में भी लगातार उसकी प्यासी गरम चूत को चाट रहा था और अपनी एक उंगली को भी में उसकी चूत के अंदर बाहर कर रहा था और वो अपने चूतड़ को हल्का सा हवा में उठाकर मेरे साथ साथ मज़े ले रही थी. तभी वो कुछ देर बाद मेरे मुहं पर झड़ गयी और मैंने उसकी चूत का सारा रस पी लिया. दोस्तों उसकी चूत का रस इतनी स्वादिष्ट था कि में आपको क्या बताऊँ? और करीब तीस मिनट चूत चाटने के बाद मैंने उससे मेरा लंड चूसने को कहा.

फिर दोस्तों वो तुरंत तैयार हो गई और अब वो मेरा लंड पागलों की तरह चूसने लगी जिसकी वजह से मुझे भी उसके साथ साथ बहुत मज़ा आ रहा था और थोड़ी देर बाद एक बार फिर से मैंने उसके दोनों पैरों को पूरा फेलाकर में उसके चूत को चाटने लगा, तो वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज अनुराग तुम अब मुझे चोद दो मुझसे स्सईईईईइ अब और बर्दाश्त नहीं होता प्लीज अनुराग थोड़ा जल्दी करो उफफफफफ्फ में मर गई आह्ह्ह्हह्ह. दोस्तों में भी उसकी बात सुनकर बहुत गरम हो गया और जोश में आकर मैंने उसकी गरम चूत के मुहं पर अपना लंड रख दिया और धीरे धीरे रगड़ने लगा, जिसकी वजह से तो वो बिल्कुल पागल ही हो गयी थी और वो कहने लगी आहहहह प्लीज चोद मुझे उफफ्फ्फ्फ़ प्लीज चोद दो थोड़ा जल्दी से आह्ह्हह्ह.

फिर मैंने सही मौका देखकर एक धक्का देते हुए ज़ोर से उसकी चूत में अपना लंड घुसा दिया, जिसकी वजह से वो बहुत ज़ोर से चीख उठी और उस दर्द की वजह से उसकी आंख से आंसू बाहर निकल आए, लेकिन कुछ देर बाद वो एकदम से शांत हो गयी और अब बहुत मज़े के साथ मुझसे अपनी चुदाई करवा रही थी. फिर में भी अब उसके दोनों पैरों को पूरा फैलाकर उसे लगातार ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोद रहा था और उसकी गरमा गरम चूत ने मेरे लंड को कसकर पकड़ रखा था. फिर कुछ देर बाद हम दोनों बिस्तर से उठ गए और अब में उसे उसकी पढ़ाई करने की टेबल पर लेटाकर चोदने लगा. वो अपनी गांड को हिला हिलाकर मुझसे चुदवा रही थी और कुछ समय ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसे घोड़ी बनने को और वो तुरंत मेरे सामने घोड़ी बन गई और मैंने उसकी गांड में बहुत मुश्किल से अपना लंड डाला और गांड मारी, लेकिन कुछ देर धक्के देने के बाद एक बार फिर से उसकी चूत की खुशबू मुझे अपनी तरफ खींच रही थी और मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. वो मुझसे पूछने लगी कि क्या तुम्हे मेरी चूत इतनी पसंद है?

मैंने कहा कि हाँ मैंने आज तक इतनी स्वादिष्ट कोई भी चीज़ नहीं खाई जितनी तुम्हारी यह चूत है, आज तो में इसे चाट चाटकर पूरी लाल कर दूँगा. तब वो हंसती हुई मुझसे बोली कि हाँ आज से यह तुम्हारी ही है, तुम्हे इसके साथ जो करना है करो, इसे ज़ोर ज़ोर से चाटो उफ्फ्फफ्फ्फ़ आह्ह्ह वाह मज़ा आ गया.

दोस्तों मैंने इस बार अपनी जीभ को पूरा अंदर तक घुसाकर चूत की चुदाई करना शुरू कर दिया, जिसकी वजह से वो मोन करने लगी और अब मेरा जोश बढ़ गया तो वो मुझसे कहने लगी उफ्फ्फ्फ़ अनुराग शईईईईईइ ऊऊहह्ह्ह हाँ अपनी जीभ को मेरी चूत के अंदर घुसा दो आईईईईई वाह बहुत मज़ा आ रहा है प्लीज ज़ोर से चाटो मेरी चूत को चाटो कुछ देर बाद वो एक बार फिर से झड़ गयी और मैंने उसका सारा पानी पी लिया फिर हम दोनों बाथरूम में चले गये और वहां पर मैंने उसे दिवार के सहारे खड़ा कर दिया और फिर उसका एक पैर थोड़ा सा उठा लिया और फिर अपना लंड चूत में सरकाकर में उसे चोदता रहा.

फिर कुछ देर बाद मैंने उसे बाथरूम के फर्श पर नीचे लेटाकर चोदना शुरू किया और में थोड़ी देर के बाद झड़ गया और मैंने सारा गरम गरम वीर्य उसकी चूत के अंदर डाल दिया और हम दोनों नहाकर बाहर आए बाहर बैठकर बातें करने लगे.

फिर कुछ देर बाद उसकी माँ आ गई और में कुछ देर रुककर उसके घर से चला गया, लेकिन में उसके घर से अपने घर तक पहुंचने तक भी उसकी चुदाई के बारे में सोच रहा था और में बहुत खुश था. मैंने उसको चोदकर मेरी तरफ से पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया था और हम दोनों उस चुदाई से बहुत खुश थे उसको मेरा गरम, मोटा, लंबा, लंड मिल गया और मुझे उसकी तड़पती हुई प्यासी चूत. दोस्तों यह था मेरा चुदाई का वो अनुभव जिसमें मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के घर पर उसे तीन बार अलग अलग तरह से चोदकर पूरे मज़े लिए और उसके बाद भी मैंने उसको बहुत बार चोदा. वो मेरी चुदाई से हमेशा संतुष्ट रही.

(Visited 2 times, 1 visits today)