पूरा दिन रोहिणी और प्रेमलता के साथ

हैल्लो दोस्तों, में फिर से आपके लिए एक नई स्टोरी लेकर आया हूँ. आप सब तो जानते ही है कि मेरा मेरे पड़ोस में रहने वाली दो भाभी रोहिणी और प्रेमलता से अफेयर चल रहा है. में हफ्ते में कम से कम 5 दिन तो सेक्स करता ही हूँ, कभी रोहिणी के साथ, तो कभी प्रेमलता के साथ. लेकिन अब तक मैंने ऐसा नियम बना रखा था कि रोहिणी को पता नहीं था कि में प्रेमलता के भी मज़े ले रहा हूँ और प्रेमलता को तो मैंने पहले से ही रोहिणी के बारे में सब बोल रखा था.

में एक गुजराती लड़का हूँ. में 23 साल का हूँ और मेरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. रोहिणी मेरी पड़ोसी है और वो एक शादीशुदा हाउसवाईफ है, उसकी उम्र 36 साल है, उसका कलर बहुत गोरा है, उसकी हाईट 5 फुट 4 इंच है, उसके बूब्स मस्त बड़े-बड़े है, उसके बूब्स की साईज 34 है और उसकी गांड भी बहुत अच्छी है.

प्रेमलता एक विधवा लेडी है, वो अदालत में जॉब करती है, उसकी हाईट 5 फुट 7 इंच है, उसके बूब्स बहुत बड़े-बड़े 36 साईज़ के है, उसकी गांड एकदम मस्त बड़ी और गोल है. रोहिणी के साथ मेरा अफेयर 4 साल से चल रहा है और प्रेमलता से 1 साल से चल रहा है. अब मेरे घर के पास ही मेरा जॉब लग गया है तो उसके कारण रोज़ सेक्स करना थोड़ा मुश्किल है. अब में रोहिणी के साथ रात को सेक्स कर लेता हूँ जब भी उसका पति बाहर होता है और प्रेमलता के साथ तो बाहर ही टायलेट में या फ्रेंड के फ्लेट पर मज़े लेता हूँ.

अब मुझे उन दोनों के साथ एक साथ सेक्स करना था तो फिर मैंने प्रेमलता को तो समझा दिया, लेकिन अब रोहिणी को कैसे बताऊँ? इसकी प्लानिंग करनी थी. फिर एक दिन रोहिणी को मैंने रात को करीब 12 बजे उसके घर की छत पर एक कम्बल लेकर बुलाया. रोहिणी का पति और उसका लड़का और लड़की सब ही नीचे सो रहे थे, जब उसने नाइटी पहने हुए थी.

मैंने उसके आते ही उसे किस किया और जल्दी से उसकी नाइटी निकाल दी, उसने अंदर कुछ नहीं पहना हुआ था. फिर मैंने भी अपने शॉर्ट्स और अंडरवेयर निकालकर अपना लंड उसके मुँह में दे दिया. फिर मैंने उसको खड़ा करके पीछे से उसकी चूत मारना स्टार्ट किया और 15-20 मिनट के बाद में उसकी चूत में ही झड़ गया. फिर हम सीढ़ियों पर कम्बल ओढ़कर ऐसे ही बिना कपड़ो के बैठकर किस करने लगे थे. फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसे मेरे और प्रेमलता के बारे में बताया और यह भी कहा कि मुझे तुम दोनों के साथ एक साथ सेक्स करना है.

अब वो यह सब सुनकर हैरान हो गई और उसने मना कर दिया. फिर थोड़ी देर तक समझाने के बाद वो भी मान गई. फिर दो दिन के बाद जब उनके घर पर कोई नहीं था तब हमने चुदाई करने का प्लान किया. अब मैंने भी जॉब से छुट्टी ले ली थी, फिर में सुबह 9 बजे उनके घर पहुँचा. अब मैंने उन दोनों को अपने पैर और चूत के बाल शेव करने के लिए बोल रखा था और सुबह नहा धोकर सिर्फ़ नाइट गाउन पहनने को बोला था. फिर में वहाँ पहुँचा और दरवाजा अंदर से बंद करके उन दोनों को लिविंग रूम में बुलाया.

अब वो दोनों अनकंफर्टबल महसूस कर रही थी, अब वो दोनों एक दूसरे को देख भी नहीं रही थी. फिर मैंने प्रेमलता को मेरे बगल में और रोहिणी को मेरी गोद में बैठाया. फिर में प्रेमलता को किस करने लगा और रोहिणी के बूब्स दबाने लगा. फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उनकी जगह चेंज करके प्रेमलता की गांड के साथ खेलते हुए रोहिणी को किस करने लगा.

फिर मैंने उन दोनों को अपने कपड़े उतारने को बोला, तो अब वो दोनों एकदम नंगी होकर मेरे सामने खड़ी थी. फिर में अपने फोन का कैमरा चालू करके वो सब रिकॉर्ड करने लगा और उन दोनों को एक दूसरे को किस करने को बोला. दोस्तों क्या सीन था वो? अब यह सब देखकर मेरा तो लंड एकदम खड़ा हो गया था. अब उन दोनों के बूब्स एक दूसरे से टकरा रहे थे, अब उनकी जीभ एक दूसरे के मुँह में थी.

अब मैंने भी पहले से वियग्रा की गोली का इंतज़ाम कर रखा था. फिर मैंने अपने कपड़े निकाले और एक गोली खा ली, अब में अपने लंड के साथ खेल रहा था. फिर मैंने उनको एक दूसरे की चूत चाटने को बोला, तो वो दोनों 69 पोज़िशन में आ गई और एक दूसरे की चूत चाटने लगी. फिर मैंने अपने लंड पर थोड़ी सी वैसलीन लगाई और सीधा जाकर रोहिणी की गांड में अपना लंड पेल दिया, लेकिन मैंने उनको अपना चाटने का काम जारी रखने को बोला तो अब वो दोनों एक दूसरे की चूत चाट रही थी और में रोहिणी की गांड मार रहा था.

फिर थोड़ी देर के बाद मैंने प्रेमलता की गांड मारना शुरू किया, फिर यह सब 15 मिनट तक चला. फिर मैंने उन दोनों को घोड़ी बनाया और बारी-बारी से दोनों की चूत में अपना लंड पेलने लगा, फिर 20-25 मिनट के बाद में फिर से उनकी गांड पर टूट पड़ा. अब गोली के असर की वजह से में झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था, अब में ऐसे ही उन दोनों को करीब दो घंटे चोदता रहा.

फिर थोड़ी देर के बाद में उनके मुँह में ही झड़ गया. अब हम तीनों एकदम थक चुके थे और ऐसे ही नंगे एक साथ सो गये. फिर जब दोपहर को सब उठे तो हमने पिज़्ज़ा मंगवाकर खाया. फिर प्रेमलता अपनी जॉब पर चली गई और अब में और रोहिणी अकेले ही थे तो मैंने फिर से उसे नंगा किया और उसके पूरे बदन को अपनी जीभ से चाटने लगा. फिर मैंने उसके बूब्स चूसना शुरू किया और उसका दूध पीने लगा. एक बात तो है दोस्तों बूब्स से दूध पीने का मज़ा कुछ और ही होता है.

फिर मैंने उसको बेड पर सीधा लेटाया और उसको मिशनरी स्टाइल में लाकर उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और मैंने उसको चोदने का काम चालू रखा. अब पूरा रूम हमारी चुदाई की ठप-ठप की आवाज़ से और रोहिणी की सिसकारियों से गूँज रहा था. फिर आधे घंटे की चुदाई के बाद में उसकी चूत में ही झड़ गया. फिर मैंने उसको 5-10 मिनट तक किस किया और उसके बूब्स चूसने लगा और फिर उसके मुलायम बूब्स पर अपना सिर रखकर सो गया.

(Visited 15 times, 1 visits today)