दोस्त की बीवी की चूत शांत की

हैल्लो दोस्तों, में अश्मित फिर से आपके सामने एक नई स्टोरी लेकर आया हूँ. यह स्टोरी मेरी और मेरे दोस्त अनिल की बीवी सुनीता यादव की चुदाई की है. सुनीता भाभी की उम्र 29 साल है और कलर बिल्कुल गौरा है, वो दिखने में बिल्कुल हिरोइन लगती है और उनकी शादी को अभी 3 साल हुए है. उनका व्यहवार बहुत अच्छा है. हम लोग अक्सर एक दूसरे के घर आते जाते थे और पहले मेरी सोच उनको लेकर ग़लत नहीं थी.

फिर एक दिन मुझे मेरे दोस्त के घर किसी काम से जाना पड़ा. फिर मैंने डोर बेल बजाई तो भाभी ने दरवाजा खोला. अभी वो नहाकर ही आई थी और उनका गोरा बदन साफ झलक रहा था. यह देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और फिर भाभी ने कहा कि क्या काम है?

मैंने कहा कि भाभी आपके पति ने मुझे दूध दिया है और बोले है कि वो किसी काम से 2 घंटे के बाद आयेंगे. फिर मैंने उनको दूध दिया और जाने लगा, तभी भाभी बोली कि चाय पीकर जाना, तो में खुश हो गया. फिर थोड़ी देर के बाद भाभी चाय लेकर आई. इतनी सेक्सी भाभी को देखकर मेरा लंड खड़ा हो चुका था और मेरा मन कर रहा था कि बस भाभी की चुदाई करने का मौका मिल जाए तो ऐसा चोदूं कि वो याद रखे.

फिर भाभी स्माइल करते हुए बोली कि क्या बात है अश्मित थोड़ा शरमा रहे हो? फिर मैंने रिप्लाई किया कि नहीं भाभी ऐसा कुछ नहीं है, लेकिन अब भाभी की नज़र मेरी पेंट पर जा रही थी और वो स्माइल करते हुए बोली कि अश्मित तुम्हारी कितनी गर्लफ्रेंड है? तो मैंने कहा कि नहीं है. फिर भाभी बोली झूठ बोल रहे हो इतना स्मार्ट लड़का और गर्लफ्रेंड नहीं है. फिर मैंने झूठ बोलते हुए कहा कि नहीं है और कहा कि भाभी आप भी तो बहुत सेक्सी हो.

यह सुनकर भाभी हंसने लगी और तभी भाभी के मोबाईल पर मेरे दोस्त का फोन आया और मेरे बारे में पूछा तो भाभी ने कहा कि हाँ अश्मित दूध दे कर चला गया है. अब यह सुनकर मैंने भाभी से पूछा कि आपने झूठ क्यों बोला कि में चला गया हूँ? फिर उन्होंने स्माइल करके कहा कि ऐसे ही. फिर थोड़ी देर तक हम लोग बातें करते रहे, तब भाभी ने कहा कि अनिल का फोन आया था और वो बोल रहे थे कि उन्हें आते आते शाम हो जायेगी.

अब यह सुनकर मैंने सोचा कि ये भाभी को चोदने का अच्छा मौका है और मैंने हिम्मत करके बोला कि भाभी में आपको कैसा लगता हूँ? तो उसने जवाब दिया कि मस्त स्मार्ट और बोली कि सच बताना में तुझे कैसी लगती हूँ? तो मैंने कहा कि भाभी आप तो माल लगती हो और बहुत सेक्सी हो. फिर मैंने कहा कि भाभी आपने अनिल से झूठ क्यों बोला कि में चला गया हूँ?

फिर भाभी शरारती नजरों से देखते हुए मेरे पास आई और बोली कि ऐसा में क्यों करूगी? तो अब में समझ गया कि वो सिग्नल दे रही है.

फिर मैंने टाईम वेस्ट ना करते हुए भाभी को अपनी बाँहों में जकड़ लिया और उसको किस करने लगा और कहा कि भाभी आप इस ड्रेस में पटाखा लगती हो, आज तो में आपको चोद ही डालूँगा. फिर में उनको अपनी बाँहों में उठाकर बेडरूम में ले गया और उनको पूरा नंगा कर दिया. भाभी का इतना गोरा चिकना बदन, क्या मस्त बूब्स? ऐसा लग रहा था कि बॉडी मलाई युक्त हो, बिल्कुल चिकना बदन. फिर मैंने मस्ती शुरू की और पूरी बॉडी को चूमा.

अब भाभी भी गर्म होने लगी थी और फिर भाभी ने मेरा लंड अपने हाथ में लेकर चूसना शुरू किया. मेरा लंड पहले से ही खड़ा था और उत्तेजित अवस्था में था, इसलिए बहुत जल्द मेरे लंड का पानी भाभी ने अपने मुँह में ले लिया और फिर से चूसने लगी. अब मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया और मैंने अपना बड़ा मोटा लंड भाभी की चिकनी चूत में डाल दिया और ज़ोर से धक्का मारा, तो भाभी की चीख निकल गयी और वो मौन करने लगी आह्ह्ह, अब मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे भाभी पहली बार चुद रही हो.

फिर भाभी बोली कि इतना बड़ा और मोटा लंड कोई भी लड़की एक बार ले ले तो हमेशा ही ऐसा लंड लेगी. अब मुझे और जोश आया और मैंने अपना लम्बा मोटा लंड पूरा भाभी की चूत में डाल दिया और ऊपर नीचे करने लगा. अब भाभी मौन करने लगी थी और चुदाई में पूरी तरह से मेरा साथ दे रही थी. अब में ड्रील मशीन की तरह रफ़्तार से भाभी को चोदने लगा था.

अब भाभी को भी मज़ा आ रहा था. अब 25 मिनट में भाभी 2 बार झड़ गई और 45 मिनट में मेरा भी पानी निकलने वाला था. तब भाभी ने कहा कि इसे अंदर ही छोड़ दो ताकि में तुम्हारे बच्चे की माँ बन जाऊँ. फिर मैंने अपना पानी उनकी चूत में ही छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया. तब भाभी बोली कि मेरा पति मुझे अच्छी तरह से चोद नहीं पाता है और 5 मिनट में ही झड़ जाता है. आज तुमने मुझे चोदकर संतुष्ट कर दिया, तुमसे चुदकर मुझे बहुत मज़ा आया.

अब यह सुनकर में भाभी को दोबारा चूमने लगा और अब किस करते-करते मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में करके अपना लंड भाभी की चूत में डालकर चोदने लगा. फिर भाभी बोली कि और चोदो, में आज जी भर के चुदूंगी, मेरे बादशाह तेरे लंड की आज में गुलाम हो जाउंगी, आज खूब चोदो.

अब में भी ज़ोर-ज़ोर से अपने लंड को अंदर बाहर करता रहा और भाभी की चूत को फाड़ डाला, लेकिन भाभी ने भी मेरा खूब साथ दिया और चुदाई में बराबर साथ देती रही. फिर 20 मिनट में हम दोनों एक साथ झड़ गये और फिर हम दोनों एक ही चादर में लेट गये और रूम के ए.सी का तापमान घटा दिया. फिर थोड़ी देर के बाद हम लोग बाथरूम जाकर फ्रेश हुए और फिर भाभी ने चाय बनाई और हमने एक ही बेड पर बैठकर चाय पी.

फिर भाभी बोलने लगी कि तुम बहुत अच्छी चुदाई करते हो, सच बताओ मुझे हमेशा चोदोगे, तो मैंने कहा कि जब आप चाहोगे में आपको चोदने के लिए आ जाऊंगा. फिर हम लोगों ने अपने-अपने कपड़े पहने और थोड़ी देर के बाद में अपने घर चला गया. अब हमारा जब भी मन करता है चुदाई का मज़ा लेते है और में भाभी को अलग-अलग पोज़िशन में चोदता हूँ. अब भाभी अक्सर मुझे कॉल करती है, जब अनिल घर के बाहर किसी काम से शहर के बाहर जाता है और हम दोनों चुदाई का भरपूर आनंद लेते है.

Related Posts