दोस्त की बहन की सील तोड़ी

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राजीव है और में जयपुर से 100 किलोमीटर दूर एक कस्बे में रहता हूँ. में सी.ए की पढाई कर रहा हूँ और में हाल ही में जयपुर ही रहता हूँ, मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है, में हट्टा कट्टा नौजवान हूँ. मुझे बॉडी बनाने का शौक है इसलिए मेरी अच्छी ख़ासी बॉडी है एकदम मस्क्युलर, जिससे कोई भी लड़की मस्त हो जाए.

मेरे लंड का साईज़ 6 इंच है जो कि हर किसी लड़की को संतुष्ट कर सकता है. में बचपन में काफ़ी शर्मीला टाईप का लड़का हुआ करता था, में किसी भी लड़की को आँख उठाकर भी नहीं देखता था, लेकिन इस घटना के बाद तो मानो मेरी ज़िंदगी ही बदल गई थी. अब तक मैंने बहुत सारी लड़कियों और शादीशुदा लेडीस के साथ सेक्स किया है और जो अब मुझसे काफ़ी खुश है, तो अब में आपको मेरे जीवन की पहली चुदाई बताता हूँ.

मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती थी, जिसका नाम था प्रिया था, वो दिखने में एकदम हीरोइन जैसी, एकदम गोरी माल थी और फिगर 32-28-34 का था, उसकी गांड मानो कोई बास्केट बाल हो, मोटी गोल थी. उसके दो भाई थे और मम्मी पापा थे, वो कुल मिलाकर फेमिली में 5 लोग थे, वो खुद अभी फाइनल ईयर में पढाई करती है.

उसका सबसे बड़ा भाई बाहर सिटी में रहकर पढाई कर रहा है, वो यहाँ नहीं रहता है और दूसरे नंबर का भाई पापा के साथ शॉप पर रहता है और उसकी मम्मी हाउसवाईफ है. हमारी फेमिली और उनकी फेमिली में अच्छे रिश्ते है. हमारा रोज एक दूसरे के घर आना जाना लगा रहता है. हम कहीं बाहर घूमने जाते है तो साथ में जाते है और बहुत इन्जॉय करते है.

उसका भाई मेरा दोस्त भी है तो में पढाई के सिलसिले में उनके घर आता जाता रहता हूँ. मुझे प्रिया बचपन से काफ़ी अच्छी लगती थी, क्योंकि में शर्मीला टाईप का लड़का था, लेकिन हमारे अच्छे रिलेशन होने के कारण में उससे ज़्यादा नहीं शरमाता था और अच्छे से बात कर लेता था. जब में उसके भाई के पास पढ़ने जाता था तो जब भी मुझे मौका मिलता तो में प्रिया की पेंटी उठा लाता था और उसे सूँघकर उसमें मुठ मारा करता था और सारा माल उसमें छोड़ देता था और फिर दूसरे दिन वापस जाकर रख देता था.

मैंने कभी किसी को शक नहीं होने दिया था और इसलिए में प्रिया की चुदाई के सपने देखता था. जब मुझे ब्लू फिल्म देखकर मुठ मारने का बहुत शौक था. मेरे मोबाईल में हर वक़्त पांच दस ब्लू फिल्म पड़ी रहती थी. एक दिन की बात है, में उसके भाई के पास पढ़ने गया हुआ था तो प्रिया ने मुझे कोई गाना बताया था कि वो डाउनलोड करना है, में कॉलेज के प्रोग्राम में डांस करुँगी. में हमारे मौहल्ले में नेट चलाने में एक्सपर्ट था तो मैंने वो गाना डाउनलोड कर दिया. फिर उसने कहा कि तू मुझे अपना मैमोरी कार्ड दे दे, तो मैंने उसे अपना कार्ड दे दिया.

फिर घर आने के बाद मुझे याद आया कि उसमें तो ब्लू फिल्म भरी पड़ी थी. अब मुझे टेंशन हो गई थी, लेकिन प्रोग्राम होने के बाद उसने मुझे वापस कार्ड दे दिया और कहा कि तू अच्छे गाने रखता है. अब में खुश हो गया था तो मैंने सोचा कि चलो अच्छा है कि उसने बी.एफ नहीं देखी. अब में भी टेंशन फ्री हो गया और अब में बी.एफ को डिलीट नहीं मारता था. अब मेरे कार्ड में गाने से ज़्यादा बी.एफ भरी पड़ी थी.

फिर थोड़े दिन के बाद उसने मेरा कार्ड फिर से माँगा कि मुझे गाने सुनने है, तो मैंने उसे अपना कार्ड दे दिया. फिर ऐसे ही ये सिलसिला बहुत दिनों तक चलता रहा. फिर एक दिन मैंने ट्राई करने के लिए जब गाने डिलीट मार दिए और सिर्फ़ ब्लू मूवी भर दी और फिर उसने मेरा कार्ड माँगा तो मैंने उसे कार्ड दे दिया. फिर जब उसने मेरा कार्ड वापस दिया तो कहा कि तू अच्छे गाने रखता है और नये गाने डाल पुराने वाले सब हटा दे और स्माइल पास की.

अब मेरी ख़ुशी का तो ठिकाना ही नहीं रहा था, अब में समझ गया था कि वो कौनसे गानों की बात कर रही है? दरअसल वो ब्लू फिल्म्स देखने लग गई थी और वो नये वीडियो डालने को बोल रही थी. अब में हमेशा मौके की तलाश में रहता था कि कब वो अकेली मिले? और कब में उसके घर जाऊं?

फिर एक दिन वो मौका आ ही गया. उसके पापा और भाई तो दुकान पर चले गये थे और उसकी माँ मंदिर चली गई थी. उस दिन सत्संग था तो उन्हें पूरा दिन लगने वाला था और मेरे घर में भी मम्मी आंटी के साथ ही सत्संग में चली गई थी, तो में अकेला था और वो भी अकेली थी. अब उनके निकलते ही में सीधा प्रिया के घर गया तो उसने मुझे अंदर बुला लिया, वो नहा रही थी, तो में टी.वी देखने लगा. फिर वो नाहकर टी-शर्ट और केफ्री पहनकर बाहर आई.

फिर मैंने कहा कि आ जा तुझे एक चीज़ दिखाता हूँ, तो फिर वो मेरे पास आकर बैठ गई. फिर मैंने उससे कहा कि तेरे लिए नये वाले गाने लाया हूँ, तो वो शरमा गई और बोली कि में तेरे सामने कैसे देख सकती हूँ? फिर मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा कि पागल हम तो दोस्त है, मेरे से क्या छुपाना? में थोड़ी ना किसी को कहने जाऊंगा.

फिर वो बोली कि ठीक है दिखाओ. अब वो मुझसे टच होकर बैठी थी. फिर मैंने कहा कि ऐसे नहीं तुम मेरा मोबाईल पकड़ो और में तेरे पीछे बैठता हूँ, तो उसने ब्लू फिल्म स्टार्ट कर दी. अब उसमें एक लड़का एक लड़की के कपड़े उतार रहा था, तो मैंने पीछे से उसके बूब्स को पकड़ दिया और सहलाने लगा. फिर उसने मेरा हाथ हटा दिया और कहा कि तुम क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि कुछ भी तो नहीं, फ्रेंड्स में तो ये आजकल सब करते है.

फिर में फिर से उसके बूब्स को उसकी टी-शर्ट के ऊपर से ही सहलाता गया. अब उसके निप्पल कड़क हो रहे थे और अब उसे भी मज़ा आ रहा था. फिर मैंने कहा कि कभी तुमने यह सब किया है? तो उसने कहा नहीं और तुमने किया है? तो मैंने भी कहा कि नहीं. फिर मैंने कहा कि आज घर पर भी कोई नहीं है तो आज करे क्या ट्राई? तो उसने कहा कि मन तो कर रहा है, लेकिन में तुम्हारे साथ कैसे कर सकती हूँ?

फिर मैंने उसे विश्वास दिलाया कि में किसी को कुछ नहीं बताऊंगा और हम हमेशा मज़े करेगें, तो फिर वो मान गई और मैंने कहा कि ये बंद करो और अब बेड पर लेट जाओ, तो वो बेड पर लेट गई. फिर में उसके ऊपर आ गया और उसके लिप्स पर अपने लिप्स रख दिए और फिर हम ऐसे ही स्मूच करते रहे. अब में उसकी जीभ और लिप्स को चूस रहा था और वो मेरी जीभ को और लिप्स को चूस रही थी. अब हमें काफ़ी मज़ा आ रहा था.

फिर हम ऐसे ही 10 मिनट तक करते रहे. फिर में नीचे आया और उसकी गर्दन पर और गले पर किस किया और उसके गले को अपनी जीभ से पूरा चाट लिया. फिर मैंने उसके कान के पीछे अपनी जीभ से चाटा और किस किया. अब वो गर्म हो रही थी. फिर में उसकी टी-शर्ट के ऊपर आ गया, वहाँ उसके निप्पल खड़े हो गये थे. फिर मैंने उन्हें अपने हाथ में पकड़ा और ज़ोर से मसल दिया, तो वो जोर से चीखी आहह धीरे करो ना, बहुत दर्द होता है. फिर में आगे भी ऐसे ही करता रहा. फिर मैंने उसके दोनों बूब्स को अपने हाथ में लिया और उनको दबाने लगा. अब में उसके बूब्स को अपने मुँह में भर रहा था.

फिर मैंने उसकी टी-शर्ट निकाल दी और अपनी भी टी-शर्ट निकाल दी और में बनियान नहीं पहनता था. अब वो सिर्फ़ ब्लेक ब्रा में थी और उसके बूब्स बड़े ही शानदार थे एकदम गोल साईज़ में. फिर मैंने उनको खूब देर तक दबाया और उसकी चूचीयों को मसला. फिर मैंने उसकी ब्रा को भी खोल दिया और उसके बूब्स अब मेरी आँखो के सामने थे.

फिर मैंने अपनी जीभ उसके निप्पल पर फैरनी शुरू की. अब वो सिसकारियां ले रही थी. फिर मैंने उसकी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया और दूसरी चूची को अपनी उंगली से मसलता रहा. अब वो काफ़ी गर्म हो चुकी थी. फिर मैंने उसकी चूत के ऊपर अपना हाथ लगाया तो पता चला कि उसकी चूत से पानी बह रहा था. फिर मैंने उसे और तड़पाया और 20 मिनट तक उसके दोनों बूब्स को अच्छे से मसल-मसलकर चूस-चूसकर लाल कर दिया.

फिर में थोड़ा नीचे आया और उसके पेट पर अपनी जीभ चलानी स्टार्ट की और उसकी नाभि को चाटने लगा, उसमें से एक अजीब सी महक आ रही थी. अब मेरा लंड पूरे उफान पर था और लोहे के जैसे कड़क हो गया था. फिर मैंने अपना पजामा और अंडरवेयर दोनों एक साथ उतार दिए. अब में पूरा नंगा हो गया था, में पहली बार किसी लड़की के सामने नंगा हुआ था.

फिर उसने मेरा लंड देखकर कहा कि इतना बड़ा मेरी चूत में कैसे जाएगा? तो मैंने कहा कि सब चला जाएगा, बेबी तुम बस मज़े करो. फिर मैंने अपना लंड उसके हाथ में दिया, तो उसने हाथ में पकड़कर हिलाना शुरू कर दिया. फिर मैंने कहा कि अपने मुँह में लेकर चूसो, तो उसने कहा कि छी-छी में नहीं चुसूंगी. फिर मैंने कहा कि चूसो बेबी मजा आएगा, तभी तो तुम्हारी अच्छी चुदाई होगी. फिर में उसके ऊपर बैठ गया और उसके बूब्स पर आ गया. अब वो तकिया लगाकर लेटी थी, फिर मैंने एक तकिया और लगाकर उसके सिर को ऊँचा कर दिया, ताकि वो अच्छे से मेरा लंड चूस सके.

फिर उसने मेरे लंड का टोपा अपने मुँह में लिया और चूसने लगी. अब में उसके मुँह में ही धक्के लगाने लगा था और उसके मुँह को चोदने लगा था. अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था, में पहली बार अपना लंड चुसवा रहा था. अब उसकी जीभ टोपे पर लगती तो मुझे जन्नत सा ही मज़ा आ जाता. फिर वो 10 मिनट तक मेरा लंड चूसती रही.

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाल दिया और फिर मैंने उसकी केफ्री को निकाल दिया, वो अब सिर्फ़ ब्लेक पेंटी में मेरे सामने लेटी थी. फिर में उसके पैरो के बीच में आ गया और उसके मुलायम चिकने पैरो को चाटने लगा. अब उसकी चूत से तो मानो कोई नदी ही बह रही हो, उसकी चूत से इतना पानी निकल रहा था. अब उससे रहा नहीं जा रहा था. फिर उसने कहा कि राज अब डाल दो अपना लंड मुझसे और नहीं रहा जाता. फिर मैंने कहा कि बेबी थोड़ी देर और बस. फिर में उसकी गोरी जांघो को चाटने लगा. फिर मैंने उसकी चूत के पास वाले हिस्से को अपनी जीभ से खूब चाटा. अब वो मेरे थूक से गीली हो चुकी थी.

फिर मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी और अब पहली बार मेरे सामने कोई चूत थी, क्या चूत थी प्रिया की? उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था जैसे उसने आज ही शेव की हो और उसमें से निकलता हुआ पानी जो गांड के छेद तक जा रहा था, पाव जैसी फूली हुई गोरी चूत में रियल में पहली बार देख रहा था. फिर मैंने उसकी चूत के दोनों लिप्स को अपने हाथ से खोला तो अंदर का गुलाबी हिस्सा तो लाजवाब था. उस छेद में से पानी निकल रहा था और अंदर से चूत एकदम गीली थी.

फिर मैंने प्रिया की चूत में अपनी जीभ घुसा दी और कुत्ते के जैसे चाटने लगा. अब उससे तो मानो रहा ही नहीं जा रहा था और अब उसने अपने पैर टाईट कर लिए थे, लेकिन मैंने उसकी चूत पर से अपना मुँह नहीं हटाया और उसने पहली बार अपना इतना वीर्य निकाला कि पूछो ही मत. अब उसकी चूत से फव्वारा ही निकल गया था, इतना माल निकला था. फिर में उसका पूरा वीर्य चाट गया. उसकी चूत का रस पीने में बड़ा ही मज़ा आ रहा था, खट्टा-खट्टा पानी अहाहहहह, में पहली बार लड़की की चूत का रस चाट रहा था.

फिर मैंने उसकी चूत के दाने को रगड़ना स्टार्ट किया तो उसकी चूत फिर से तैयार हो गई. अब उसकी चूत का बुरा हाल था. अगर इस समय में उसे बीच में छोड़ देता हूँ, तो वो किसी कुत्ते से भी चुदवा लेती उसकी ऐसी हालत हो गई थी. फिर मैंने अच्छे से 20 मिनट तक उसकी चूत चाटने के बाद उससे क्रीम माँगी तो उसने मुझे पास में पड़ा नारियल का तेल दे दिया.

फिर मैंने उसकी चूत पर नारियल का तेल लगाया और मेरे लंड पर भी अच्छे से तेल लगाया. फिर मैंने उसके दोनों पैरो को फैलाकर अपने कंधो पर रख लिए. फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ा, ताकि तेल सही से लग जाए. फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर टिकाया और एक जोरदार धक्का मारा तो मेरा टोपा उसकी चूत में अंदर चला गया और उसकी चीख निकल गई. अब उसकी आँखो में आँसू झलक गये थे.

फिर उसने कहा कि मुझे नहीं चुदवाना प्लीज निकाल लो अपना लंड, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन अब मुझे तो आज चुदाई करनी ही थी, फिर मैंने 5 मिनट तक कुछ नहीं किया और उसके लिप्स पर किस करता रहा, उसके बूब्स को चूसा, निप्पल को मसला जिससे उसका थोड़ा दर्द कम हुआ. फिर मैंने एक झटका और मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और वो फिर से चीख पड़ी अयाया हह हहह हहहह हहहह प्लीज निकालो अपना लंड, मुझे नहीं चुदवाना, लेकिन मैंने फिर से उसे किस करके शांत किया और उसके बूब्स चूसे.

अब मुझे पहली बार चुदाई में मेरे लंड को इतना दर्द हुआ था कि पूछो मत. अब मेरे लंड में सुन्न पड़ गई थी, लेकिन चूत मिलने की ख़ुशी भी थी. फिर मैंने धीरे-धीरे अपने लंड को आगे पीछे करना शुरू किया और उसका दर्द कम होता गया, लेकिन अब उसकी सील टूट चुकी थी और अब उसका खून मेरे लंड पर लगा हुआ था और कुछ बूंदे पेंटी पर भी गिर गई थी.

अब मैंने नीचे पेंटी लगा दी थी, लेकिन जैसे-जैसे मैंने अपनी स्पीड बढाई तो उसका दर्द कम होता चला गया और 20 मिनिट की चुदाई के बाद वो नॉर्मल हो गई. अब में स्पीड से उसकी चूत का मज़ा ले रहा था और अब उसे भी मज़ा आने लगा था. अब वो भी मेरी कमर को पकड़कर अपनी गांड को उठा रही थी.

फिर मैंने अगले 20 मिनट तक अपनी फुल स्पीड में चुदाई चालू रखी, इस बीच में उसका दो बार वीर्य निकल चुका था, लेकिन अब मेरा निकलने वाला था. फिर मैंने फुल स्पीड में चुदाई करते हुए अपना सारा माल उसकी चूत में ही भर दिया और मेरे साथ ही वो भी ढेर हो गई और फिर हम ऐसे ही लेटे रहे. फिर मैंने अपना खून लगा हुआ लंड प्रिया की चूत से बाहर निकाला और अब वो काफ़ी खुश दिख रही थी. फिर मैंने अपना लंड उसकी पेंटी से पोछा और फिर उसने अपनी चूत पर लगे माल को साफ किया.

उस दिन हमने 3 बार सेक्स किया था. हमें फुल मौका था और आखरी राउंड में मैंने उसकी गांड भी मार दी थी, गांड मरवाने में उसे बहुत दर्द हुआ था, लेकिन वो मेरे लिए सब सहन कर गई थी. अब मुझे भी उसकी गांड मारने में बहुत मज़ा आया था.

उस दिन वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी. फिर मैंने उसे टेबलेट लाकर दी और फिर मैंने मेरे दोस्त से प्रेग्नेसी से बचने के लिए आई-पिल मँगवाई. अब हमें जब भी मौका मिलता है तो हम चुदाई करते है, लेकिन उसने पिछले 2 साल में मेरे अलावा किसी से चुदाई नहीं करवाई है और ये बात किसी को भी पता नहीं है. अब में उसके घर पर पढाई के बहाने से जाता हूँ और उसकी चूत और गांड दोनों का मज़ा लेता हूँ. अब मुझे किसी से भी शर्म नहीं आती है. अब में हर टाईप की औरत को चोद चुका है. अब मुझसे हमारे आसपास की ऐसी-ऐसी लेडीस चुदवा चुकी है, जिन पर कोई विश्वास भी नहीं कर सकता है, लेकिन अब वो मेरे लंड के नीचे अपनी पेंटी उतारकर चुदवाती है और गांड भी मरवाती है, बहुत सी लेडीस की गांड तो मेरे मारने से पहले तक कुंवारी थी और मैंने उनकी गांड का बहुत मज़ा लिया है.