तलाकशुदा बॉस के साथ चुदाई

हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी पढ़ने वालों को अपनी एक सच्ची चुदाई की कहानी सुनाने जा रही हूँ. यह मेरी चुदाई मेरे बॉस ने की और मैंने भी उनका पूरा पूरा साथ दिया और उनके साथ बहुत मज़े किए मैंने उनको अपनी बातों में और अपने सेक्सी गदराए बदन का अंग प्रदर्शन करके उन्हें अपनी तरफ पूरी तरह से आकर्षित किया जिसकी वजह से वो मेरी चुदाई करने पर मजबूर हो गए और मुझे उनका लंड मिल गया और उनको मेरी मचलती हुई चूत और हम दोनों बहुत खुश हुए और अब में आप लोगों का ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए सीधे अपनी आज की कहानी की तरफ बढ़ती हूँ. दोस्तों उस समय में अपने पति के साथ अमेरिका में रहती थी, लेकिन दोस्तों मेरी रूचि शुरू से ही चुदाई करने में रही है. मुझे अपनी चुदाई करवाना बहुत अच्छा लगता था और मैंने अपने पति के साथ हमेशा अपनी चुदाई के बहुत मज़े लिए थे, लेकिन दोस्तों जब से हम दोनों पति, पत्नी अमेरिका आए है हमने एक बार भी चुदाई का खेल नहीं खेला.

में अपने पति से पूरी तरह से संतुष्ट होकर बहुत समय पहले चुदी थी, लेकिन फिर भी मेरे पति का मुझ पर अब ज्यादा ध्यान नहीं था और वो अब मेरी चुदाई करने में इतनी ज्यादा रूचि नहीं रखते थे. मुझे बिल्कुल भी पता नहीं था कि उन्हें ऐसा क्या हो गया था और वो जब कभी मुझे चोदते तो ज्यादा से ज्यादा दो पांच मिनट में ही मुझसे दूर हो जाते और में हमेशा प्यासी तड़पती हुई रह जाती. उन्होंने मुझे कभी भी पूरी तरह से संतुष्ट नहीं किया इसलिए में उस बात को लेकर मन ही मन बहुत चिंतित और थोड़ा सा उदास रहने लगी थी. मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता था.

फिर एक दिन मुझे एक ऑफर आया अपने पति की कंपनी में काम करने का तो मैंने बिना कुछ सोचे समझे तुरंत हाँ कर दिया. वहां पर मुझे एक चपरासी का काम मिला था जिसमे फाईल बनानी होती है और अपने बॉस को वो अपना काम दिखाकर उसको आगे भेजनी होती है. फिर मैंने अगले ही दिन से ही अपने ऑफिस में जाना शुरू कर दिया था.

में अपनी उस नौकरी से बहुत खुश थी क्योंकि उस नौकरी की वजह से अब मेरा मन भी लगा रहेगा वरना में अकेली घर पर रहकर बहुत बोर भी होने लगी थी. दोस्तों वहाँ पर औरतों के कपड़ो का कलर एक जैसा और वो हमेशा स्कर्ट और शर्ट और साड़ी भी पहनना होता था. फिर मैंने पहले दिन पीछे से पूरी खुली हुई साड़ी पहनने के बारे में सोचा और मैंने बहुत अच्छे से मेकअप किया और लाल कलर की लिपस्टिक और आउटलाईन लगाई. मेरे पति को कोई जरूरी काम था इसलिए वो मुझसे पहले ही चले गए थे.

मैंने अपने बाल खुले रखे हुए थे और एक ज्यादा गहरे गले का ब्लाउज पहना हुआ था, जिसमें से मेरे बूब्स की लाइन साफ साफ दिख रही थी और में बहुत सेक्सी लग रही थी. फिर में करीब एक घंटे के बाद अपने ऑफिस गई. मेरे पति का टेबल नंबर 6th मंजिल पर था और मेरा 13th पर था मैंने सारा दिन काम किया और बहुत थक गई थी. फिर में अपनी कुछ फाईल लेकर जब अपने बॉस के कमरे में चली गई तो दोस्तों उसके बाद में वो सब कुछ देखकर बहुत चकित थी कि वो अपनी पत्नी को ना जाने किस बात के लिए डांट रहे थे और वो उनको तलाक देने की भी बातें कर रहे थे उनकी यह लड़ाई झगड़ा कुछ देर ऐसे ही चलता रहा और करीब पांच मिनट के बाद वो वहां से चली गई.

मैंने उन्हें जाते हुए देखा और फिर में उनके बाहर निकलते ही अंदर चली गई. मैंने खुद का अपने बॉस से परिचय करवाया और फिर हम दोनों ने करीब 15 मिनट तक इधर उधर की बातें की. दोस्तों वो बहुत ही मजाकिया किस्म के आदमी थे और उन्होंने मुझसे बहुत मजाक किया और मुझे बहुत बार हंसाया, लेकिन मुझे उनके साथ अपना समय बिताकर बहुत अच्छा लगा और वो मेरा पहला दिन बहुत अच्छा गुजरा.

वो सभी बातें मैंने अपने घर पर आने के बाद अपनी पति के साथ खाना खाते समय उनको भी बताई, लेकिन उन्होंने मेरी बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया और वो खाना खाकर सोने चले गए और में भी अपने कामो से फ्री होकर बेड पर जा लेटी और कुछ देर अपने बॉस के बारे में सोचती रही और ना जाने कब मुझे नींद आ गई.

उसके अगले दिन में जल्दी से उठकर अपने सभी कामों को करने के बाद नहाकर तैयार हो गई और मैंने उस दिन स्कर्ट और एक गुलाबी कलर की टी-शर्ट जिसके मैंने खुद जानबूझ कर ऊपर के दो बटन खोल लिए, जिसकी वजह से मेरे बड़े आकार के बूब्स बिल्कुल साफ साफ दिखाई दे रहे थे, जिसको देखकर कोई भी मेरी तरफ आकर्षित हो जाए क्योंकि में दिखने में बहुत गोरी, सुंदर मेरे बड़े आकार के सुंदर बूब्स और मटकती हुई गांड, सेक्सी गदराया हुआ बदन किसी को भी मुझे चोदने पर मजबूर कर सकता है.

फिर में सजधजकर अपने ऑफिस चली गई. सच पूछो तो दोस्तों में उस दिन बहुत खुश थी, क्योंकि मुझे मेरे बॉस का व्यहवार बहुत अच्छा लगा, जिसकी वजह से मेरा मन भी लगने लगा था और फिर में अपना काम करने लगी.

फिर तभी कुछ देर बाद मुझे मेरे बॉस ने अपने केबिन में बुलाया और उन्होंने मुझसे कल कि कुछ फाईल माँगी और जब में उनके पास वो फाइल्स लेकर पहुंची तो वो मुझे अपनी खा जाने वाली नजरों से लगातार घूरकर देखने लगे थे, उनकी नजर मेरी छाती से हटने को तैयार ही नहीं थी.

फिर जब में अपना काम करने के बाद वापस जाने लगी तो मैंने देखा कि वो मेरे बूब्स को बहुत ध्यान से घूर घूरकर देख रहे है और उनकी नजरे मेरे सेक्सी बदन पर ही टिकी हुई थी इसलिए में भी जानबूझ कर उन्हें हल्की सी स्माइल देकर बाहर चली आई.

तभी कुछ देर के बाद मेरे साथ की एक मेडम ने मुझे अपने पास बुलाया और फिर हम दोनों बातें करने लगे तब मैंने उनसे मेरे बॉस के बारे में पूछा तब उसने मुझे बताया कि उसका तलाक हो चुका है और उसकी पत्नी आज भी उससे पैसे लेने के लिए यहाँ पर आती है. तलाक होने के बाद से वो अब तक बिल्कुल अकेला ही है और तब में वो सारा माझरा समझ गई कि उस दिन वो सब मेरे बॉस और उनकी पत्नी के बीच क्या सब चल रहा था? और फिर जब में दोबारा अपने बॉस के रूम में गई तो में उनसे बहुत हंस हंसकर बातें करने लगी और अब में अपने बॉस के अकेलेपन उनकी कमजोरी का फायदा उठाना चाहती थी, क्योंकि ऐसा करने में मेरा भी बहुत बड़ा फायदा था इसलिए में मन ही मन वो सब सोचकर बहुत खुश थी.

फिर उस दिन हमारे बीच बहुत देर तक हंसी मजाक चलता रहा और तभी अचानक से मैंने जानबूझ कर अपने पेन को नीचे गिरा दिया जिसको उठाने के लिए में उसके सामने झुक गई और जिसकी वजह से मेरे दोनों बूब्स बाहर की तरफ झूलने लटकने लगे थे और अब में उसे अपने बूब्स को दिखाकर अपनी तरफ आकर्षित करने लगी थी और वो अब मेरे सेक्सी जिस्म का नज़ारा देखकर मुझ पर लट्टू होने लगे थे, लेकिन में कुछ देर बाद उनकी तरफ मुस्कुराकर उन्हें अपनी तरफ से हरी झंडी दिखाकर तुरंत बाहर चली आई.

फिर उस दिन शाम को मैंने अपने पति को एक के साथ गे सेक्स करते हुए मेरे ऑफिस के एक खाली रूम में रंगे हाथों पकड़ा और फिर में वो सब देखकर बहुत उदास होकर अपनी जगह पर आकर रोने लगी. तब तक ऑफिस के सभी लोग अपने अपने घर पर वहाँ से जा चुके थे और वहां पर बस में अकेली बैठी रो रही थी.

मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था कि में अब क्या करूं? फिर कुछ देर बाद मेरे बॉस ने अपने केबिन से बाहर निकलने के बाद मुझे रोता हुआ बहुत उदास देखा तो वो मुझसे पूछने लगे कि ऐसा क्या हुआ जो में रोने लगी? क्या मुझे किसी ने कुछ कहा है? तुम मुझे अपनी समस्या बता सकती हो में उसका जरुर कोई ना कोई समाधान निकाल दूंगा. फिर मैंने उन्हे वो सब कुछ सच सच बता दिया जो मैंने अपनी आखों से अपनी पति को कुछ देर पहले करते हुए देखा था. वो मेरी बात को एकदम चुपचाप बहुत ध्यान से सुनते रहे और में अपनी बात को खत्म करके एक बार फिर से ज़ोर ज़ोर से रोने लगी थी. फिर उन्होंने मुझे दिलासा दिया और मुझे चुप करवाया और कुछ देर बाद में वहां से चली गई, लेकिन मैंने अभी तक अपने पति से कुछ भी नहीं पूछा और में चुपचाप अपने बेड पर जाकर सो गई.

फिर उसके अगले दिन क्रिस्मस था तो उसी शाम को एक पार्टी थी जिसमें हर एक जोड़े का डांस था, लेकिन हर एक मिनट के बाद जोड़े बदलते है और डांस करने वाले सब लोग अपनी जगह भी बदलते है.

उस दिन मैंने काली कलर की साड़ी जिसका ब्लाउज पीछे से पूरा खुला हुआ था वो पहना था. फिर सबसे पहले तो हमने खाना खाया तभी मेरे बॉस आ गए और मेरे पति का पता नहीं था कि वो कहाँ चला गया था इसलिए बॉस और मैंने एक साथ में बैठकर खाना खाया वो पार्टी 9 बजे से थी और अभी हमारे पास पूरा एक घंटा पड़ा हुआ था. तो हम दोनों कार में घूमने चले गये. मुझे उनके साथ बहुत मजा आया और में उनके साथ बहुत खुश थी और एक पल के लिए तो मुझे ऐसा लगने लगा था कि बस यही मेरा पति है और वो मन ही मन मुझे अच्छे लगने लगे थे.

फिर हम कुछ देर बाद पार्टी में पहुंच गये और मुझे मेरा पति वहीं पर मिला और अब डांस पार्टी शुरू हुई. हम सभी डांस करने लगे और अब मेरी नज़रें उस भीड़ में बस मेरे बॉस को ही ढूंड रही थी.

में डांस करते समय भी लगातार इधर उधर देखती रही तभी कुछ ही देर बाद जोड़े बदल गए और मैंने देखा कि उस समय मेरे सामने मेरे बॉस आ गये और फिर मैंने बहुत खुश होकर तुरंत अपना एक हाथ आगे बढ़ाया और उन्होंने झट से उसे पकड़ लिया और अब उनका एक हाथ मेरी गोरी, पतली, नाजुक कमर पर था जो कि धीरे धीरे नीचे सरक रहा था, लेकिन मैंने उनसे कुछ ना कहा और हमारी सांसे एक दूसरे से टकरा रही थी मेरे बड़े आकार के गोरे लटकते हुए बूब्स उनकी छाती से दब रहे थे और में उस समय पूरी तरह मधहोश होकर उनकी बाहों में झूल रही थी.

में उस समय कोई दूसरी दुनिया में थी और करीब 15 मिनट के बाद हम दोनों ना चाहते हुए भी एक दूसरे से अलग हो गये और अब हम ड्रिंक पीने लगे और फिर उसके बाद हम एक दूसरे से बाय कहकर जा रहे थे कि तभी हमारी कार अचानक से खराब हो गई और अब बारिश भी आने लगी थी.

फिर बॉस ने हमे देख लिया और वो हमसे कहने लगे कि में तुम्हे छोड़ देता हूँ. फिर मेरे पति ने उनसे हाँ कहा और फिर हम चले गये. अपने घर पर पहुंचने के बाद जब हमने उनसे बाय कहा तो जब मेरे बॉस जा रहे थे और तभी मेरे पति ने देख लिया कि वो पूरे भीगे पड़े थे तो मेरे पति ने उनको रुकने के लिए कहा और मैंने उनकी तरफ एक शरारत भरी हल्की सी स्माइल दे दी और वो मान गये.

फिर मेरे पति ने उन्हे उनका रूम दिखाया और फिर उनको पहनने के लिए अपना एक लोवर दे दिया फिर हम सब सो गये. फिर करीब रात को एक बजे में उठी तो मुझे किसी के बातें करने की आवाज़ आई. में उठी और में कम्बल देने अपने बॉस के कमरे में चली गई. में उस समय मेक्सी में थी और मैंने देखा कि मेरे पति से मेरे बॉस बातें कर रहे थे, तो मैंने उन्हे कम्बल दे दिया और में अपने कमरे में आकर सो गई.

दोस्तों उसके अगले दिन वो सुबह जल्दी उठकर हमारे साथ चाय पीकर चले गए और फिर दो दिन बाद उनका जन्मदिन था इसलिए उन्होंने अपने जन्मदिन की एक छोटी सी पार्टी रखी थी, लेकिन उस समय मेरे पति दो दिन के लिए बाहर कहीं एक शादी में गये हुए थे. फिर मेरे ऑफिस में पार्टी के खत्म करने के बाद उन्होंने मुझे उनके घर पर आने के लिए कहा और मैंने भी उन्हे तुरंत हाँ कर दिया. फिर शाम को करीब 6 बजे में एक गुलाबी कलर की साड़ी गहरे गले का ब्लाउज पहनकर गुलाबी कलर की लिपस्टिक और ऊँची हील्स पहनकर उनके घर पर सज धजकर मटकती हुई चली गई उन्होंने मन से मेरा स्वागत किया और अपने जन्मदिन का केक काटा हम दोनों उस समय घर पर बिल्कुल अकेले थे.

फिर हम दोनों ने कुछ देर बाद ड्रिंक करना शुरू किया, लेकिन कुछ देर बाद वो मुझसे बोले कि अब हम फिल्म देखते है और मैंने भी उनसे हाँ कह दिया. उन्होंने रागिनी एमएमएस 2 लगा दी और में तो उसे देखकर अब धीरे धीरे गरम हो रही थी और में अब तक दो बार झड़ चुकी थी. फिर मैंने उससे मुझे मेरे घर पर छोड़ने के लिए कहा तो हम दोनों बस से चले गये, वो बस पूरी तरह भरी हुई थी और उसमे बहुत भीड़भाड़ थी और वो ठीक मेरे पीछे खड़े थे मेरी गांड से बिल्कुल चिपककर और वो मेरी गांड में अपना लंड डालने की कोशिश कर रहे थे और में भी पूरे जोश में आकर मज़े लेते हुए पीछे की तरफ झटके मार रही थी.

फिर मैंने कुछ देर बाद उनकी तरफ अपना चेहरा कर लिया और अब हम दोनों बहुत हंस हंसकर बातें करने लगे थे तभी अचानक से एक ज़ोर का ब्रेक लगा और उनके होंठ मेरे होंठ से टकराए मेरे बूब्स उनकी छाती से चिपक गये और उनका लंड मेरी चूत में धँस गया. हम फिर अलग हुए और घर पर पहुंच गये. अब में उन्हें सोफे पर बैठाकर चाय बनाने किचन में चली गई, लेकिन वो भी मेरे पीछे आ गये और अब वो मुझसे उन सभी हरकतों के लिए सॉरी कहने लगे.

मैंने उनकी तरफ स्माइल करते हुए उनसे कहा कि वो जो भी था बहुत अच्छा था और जो मुझे चुभ रहा था वो भी, बस इतना कहने की देर थी कि उन्होंने आगे बढ़कर तुरंत मुझे पकड़ लिया और वो अब मेरे नरम गुलाबी होंठो पर किस करने लगे थे और उन्होंने मुझे वहीं उस पट्टी पर बैठा दिया और अब वो मेरे होंठो को चूसने लगे और ज़ोर ज़ोर से मेरे बूब्स को दबाने लगे थे और में जोश में आकर लगातार सिसकियाँ ले रही थी.

कुछ देर बाद मैंने उनको रूम में जाने के लिए कहा तो उन्होंने मुझे ऐसे ही अपनी गोद में उठा लिया और वो मुझे मेरे बेडरूम में ले गए और उन्होंने बेड पर पटक दिया और अब उन्होंने जल्दी से मेरे सारे कपड़े उतार दिए और वो खुद भी मेरे सामने पूरे नंगे हो गये. उसके बाद वो मेरी चूत को चाटने लगे, जिसकी वजह से में आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ वाह मज़ा आ गया. सिसकियाँ लेने लगी और में तो जैसे उस समय सातवें आसमान में थी.

फिर करीब बीस मिनट के बाद में झड़ गई और मेरा पूरा शरीर बेजान सा हो गया, लेकिन मेरी चूत अपना काम लगातार करती रही और वो मेरी चूत से निकला मेरा पानी भी पी गये. उसके बाद अब उन्होंने मुझे अपना लंड चूसने के लिए कहा और में बहुत खुश होकर उनका लंड चूसने लगी, वाह दोस्तों उनका कितना लंबा और मोटा लंड था, लेकिन कुछ देर चूसने के बाद उन्होंने मुझे नीचे लेटा दिया और वो खुद मेरे दोनों पैरों के बीच में आ गए उन्होंने अपने लंड को मेरी चूत के मुहं पर रख दिया और फिर ज़ोर से धक्का देकर उन्होंने अपना पूरा लंड एक ही बार में अंदर डालकर वो अब मुझे ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदने लगे थे और में ज़ोर ज़ोर से आहहह सस्सिईई आआअहह आअहह करके चिल्लाने लगी थी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था उनके हर एक धक्के में बहुत दम था में बिल्कुल पागल हुई जा रही थी कुछ देर बाद उन्होंने मुझे घोड़ी बनाकर एक जोरदार धक्का देकर मेरी चूत के अंदर अपना पूरा लंड सरकाकर मेरी चुदाई करने लगे थे और मैंने एक बार फिर से सिसकियाँ भरनी शुरू कर दी थी, लेकिन वो फिर भी ना रुके और में आआहह सस्स्सिईई सस्स्स्सिईई आह्ह्हह्ह करके लगातार लंड के मज़े लेकर चीखती चिल्लाती रही.

करीब बीस मिनट की लगातार चुदाई के बाद उन्होंने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकालकर मुझे सीधा लेटाकर लंड को अपने एक हाथ से हिलाते हुए सारा गरम गरम स्पर्म मेरे बूब्स पर छोड़ दिया वो मेरे पूरे बदन पर फैल गया. अब वो सीधा बाथरूम में चले गए उन्होंने अपने आप को साफ किया और फिर वो बाहर आकर अपने कपड़े पहनकर उनके घर पर चले गये, लेकिन दोस्तों में अपनी उस चुदाई के बाद बहुत खुश रहने लगी और उसके बाद में कभी अपने ऑफिस तो कभी उसके घर पर उनसे चुदती उनके साथ पूरे पूरे मज़े लेती थी.