आशा भाभी के मन की एक मुराद


प्रेषक : विक्की …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विक्की है और आज में आप सभी को अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ, जिसमें मैंने अपनी भाभी को चोदकर उनकी मन की इच्छा को पूरा किया, वैसे में शुरू से ही सेक्स का भूखा हूँ और मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है। दोस्तों यह बात तब की है जब में अपने कॉलेज के दूसरे साल में था और में उस समय अपने कॉलेज की दीवाली की छुट्टियों में अपने घर पर आया हुआ था। दोस्तों मेरा एक चचेरा भाई है और जो मेरे घर के पास में ही रहता था और उसकी अभी एक साल पहले ही शादी हुई थी और मेरी भाभी का नाम आशा था। दोस्तों मेरी भाभी दिखने में बड़ी हॉट, सेक्सी थी और उसका फिगर दिखने में बड़ा ही अच्छा था। दोस्तों वैसे तो उनके बूब्स आकार में ज़्यादा बड़े नहीं थे, लेकिन उनके बदन का वो आकार बहुत कमाल का था, उनको चलते हुए देखते ही मुझे उनको चोदने का मन करता था।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai Kahani, Free Indian Sex Videos, Desi Sex Videos , Hindi Sex Video, Gujarati sex story,Kamukta stories, , kamukta,

दोस्तों में अपने भैया की शादी में शामिल नहीं हुआ था, क्योंकि में उस समय अपनी पढ़ाई में बहुत व्यस्त था और इसलिए में अभी तक अपनी भाभी से नहीं मिला था, लेकिन जब में अपने कॉलेज से पेपर खत्म होने के बाद घर पर आया तो में अपनी भाभी को देखकर एकदम दंग रह गया, क्योंकि वो तो मेरी उम्मीद से भी ज्यादा हॉट, सेक्सी थी और उनके फिगर का साईज 34-26-32 था। मेरे और उनके परिवार का बहुत गहरा रिश्ता था, जिसकी वजह से हम लोगों का एक दूसरों के घर पर बहुत आना जाना लगा रहता था और हमारे घर एक दूसरे से लगे हुए थे तो में भी कोई ना कोई बहाना बनाकर भाभी को देखने के लिए उनके घर पर अक्सर चला जाता था और वो भी हमारे घर पर मम्मी से मिलने आ जाया करती थी, में तो हमेशा उनकी गांड को तिरछी नज़र से देखा करता था और में हमेशा बहुत बार उनके नाम से मुठ भी मारता था।

फिर ऐसे ही दिन बीतते गये और हम लोगों में अब बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी और जब भी में अपनी छुट्टियों में घर पर आता था तो हम लोग साथ में बैठकर बहुत देर तक बातें किया करते थे और हमारे घर पर किसी को इसमें कोई आपत्ति नहीं थी, क्योंकि सब मुझे बहुत अच्छा लड़का समझते थे। एक बार जब में अपनी दीवाली की छुट्टियों में अपने घर पर आया तो मैंने मन ही मन सोच लिया था कि इस बार तो में अपनी भाभी को चोदकर ही वापस जाऊंगा। वो त्योहार के दिन थे और उस समय घर के कामों की बहुत हड़बड़ी थी तो इस बात का फायदा उठाकर मैंने दो तीन बार अच्छा मौका देखकर भाभी की गांड को छू लिया था, लेकिन उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा और मेरी हर एक हरकत को अनदेखा कर दिया। फिर दीवाली ख़त्म होने के बाद सभी लोग फिर से अपने अपने कामों में लग गये थे। एक दिन मेरे घर वाले मेरे किसी रिश्तेदार के घर पर किसी जरूरी काम से गये थे और फिर में बहाना बनाकर घर पर ही रुक गया, क्योकि उस समय मेरा प्लान कुछ और ही था, मेरे मन में अब अपनी भाभी की चुदाई करने के लिए बहुत कुछ चल रहा था। फिर मेरी मम्मी ने भाभी से कहकर मेरे लिए एक दो दिन के खाने का इंतज़ाम कर दिया था और भाभी उस दिन रात को करीब 8 बजे मेरे लिए खाना लेकर आ गई। फिर मैंने देखा कि भाभी अपने चेहरे से कुछ उदास, नाराज़ सी लग रही थी और जब मैंने उनसे पूछा तो वो मुझसे कहने लगी कि ऐसा कुछ नहीं है और यह सब आप नहीं समझोगे। फिर मैंने जब उन्हें उनकी बात मुझे बताने पर बहुत ज़ोर दिया, तब उन्होंने मुझे अपने उदास होने का कारण बताया। फिर में उनके मुहं से यह सब बातें सुनकर एकदम आश्चर्यचकित हो गया, क्योंकि वो मुझसे बोली कि आपके भैया में कुछ कमी है और वो बोली कि उस कमी की वजह से में अब कभी भी माँ नहीं बन सकती हूँ, हम लोगों ने बहुत कोशिश की और बहुत सारे डॉक्टर्स को भी दिखाया, लेकिन तुम्हारे भैया को उनकी किसी भी दवाइयों से कोई फ़र्क नहीं पड़ रहा और फिर मुझसे वो इतना कहकर ज़ोर ज़ोर से रोने लगी।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai Kahani, Free Indian Sex Videos, Desi Sex Videos , Hindi Sex Video, Gujarati sex story,Kamukta stories, , kamukta,

दोस्तों अब मुझे बिल्कुल भी समझ में नहीं आ रहा था कि अब में क्या करूं? फिर में उठकर उनके पास जाकर बैठ गया और फिर मैंने जैसे ही उनके कंधे पर अपना हाथ रखा तो वो मेरे कंधे पर अपना सर रखकर ज़ोर ज़ोर से रोने लगी। अब मेरी तो समझ से यह सब कुछ बाहर था और में उनकी इस मुसीबत में कैसे मदद करता, मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था? थोड़ी देर रोने के बाद वो पहले जैसी हो गई और फिर उठकर अपने घर पर चली गई, लेकिन में उस पूरी रात को उनके बारे में ही सोचता रहा और बाद में मुझे पता नहीं कब नींद आ गई। दूसरे दिन जब मैंने भाभी को देखा तो वो अपने चेहरे से बिल्कुल ठीक लग रही थी। वो दोपहर को जब मेरा खाना लेकर आई तो मुझे बहुत जोश में लग रही थी और उन्हें देखकर मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि उन्हें अब क्या हुआ है? फिर हम बैठकर बातें करने लगे और थोड़ी देर बात करने के बाद मैंने उनसे पूछ ही लिया कि आप कल बहुत उदास थी, लेकिन आज एकदम से माहोल कैसे बदल गया? तो वो एकदम से चुप हो गई और फिर बोली कि वो ऐसा है कि में अब माँ बन सकती हूँ। फिर मैंने बोला कि वाह यह तो बहुत खुशी की बात है, क्योंकि में भी अब बहुत जल्दी चाचा बन जाऊंगा।

भाभी : हाँ वो तो तुम्हारा कहना सब कुछ ठीक है, लेकिन मुझे इसमें तुम्हारी मदद की ज़रूरत है, लेकिन अगर तुम करना चाहो तो?

में : हाँ ठीक है, लेकिन में आपकी इसमें मदद कैसे कर सकता हूँ?

फिर वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर तुरंत उठकर मेरे पास आई और मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर कहने लगी कि विक्की तुम यह बात तो बहुत अच्छी तरह से जानते हो कि तुम्हारे भैया तो मुझे कभी भी गर्भवती नहीं कर सकते, लेकिन इसमें तुम मेरी मदद कर सकते हो और प्लीज मुझे मना मत करना, क्योंकि मैंने कल रात भर बहुत सोच समझकर यह निर्णय लिया है, प्लीज एक बार मेरी बात मान लो। दोस्तों में भी उन्हें पहली बार देखने के बाद उनसे चाहता तो यही था, लेकिन यह सब इस तरह होगा तो इसकी मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी। फिर मैंने उनसे झट से हाँ कह दिया और कहा कि भाभी में सच कहूँ तो में आपसे बहुत प्यार करता हूँ, लेकिन वो बोली कि मुझे भी यह सब बहुत अच्छी तरह से पता है कि तुम मुझे चोरी छुपकर देखते हो और जब में आँगन में झाड़ू लगती हूँ तो मुझे सब पता है कि तुम मेरे बूब्स पर अपनी नजर रखते हो, लेकिन प्लीज अब तुम मुझे मना मत करना, वरना मोहल्ले की सब औरते मुझे बांझ कहेगी और मेरा बहुत मजाक उड़ाएगी, में यह सब बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर सकती। फिर में उनके इस काम को करने के लिए बिल्कुल तैयार हो गया और मेरे मुहं से हाँ शब्द सुनकर वो खुश हो गयी और अब वो मुझसे बोली कि हम आज ही अपने काम को निपटाते है, में माँ जी के सोने के बाद रात का खाना थोड़ा देरी से लेकर आउंगी तो तुम मेरा इंतजार करना, क्योंकि आज वैसे भी तुम्हारे भैया की भी नाईट ड्यूटी है।

फिर में उनसे बोला कि ठीक है और अब में उनका बहुत बेसब्री से इंतजार करने लगा और में मन ही मन उनकी चुदाई के सपने देखने लगा। फिर करीब रात के दस बजे वो मेरे लिए खाना लेकर आ गई, वाह दोस्तों वो दिखने में क्या लग रही थी और वो उस लाल कलर की मेक्सी में मेरे पास आकर बैठ गई और फिर बोली कि पहले क्या खाओगे? और उन्होंने मुझे एक शरारती स्माईल दी। फिर में उनकी इस बात का मतलब समझकर झट से उन पर कूद पड़ा और अब उनके होंठो पर अपने होंठ रखकर चूमने लगा और उनके बूब्स को एक एक करके ज़ोर से दबाने मसलने लगा और पूरे हॉल में स्मूच की आवाज़ गूंज रही थी। दोस्तों ये कहानी आप सेक्स समाचार  डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने उनको अपनी गोद में उठाया और बेडरूम में लाकर बेड पर लेटा दिया और फिर में उन पर चढ़ गया। फिर हम एक दूसरे को पागलों की तरह चूमने, चाटने लगे। मैंने एक हाथ से उनकी मेक्सी को कमर तक ऊपर उठा दिया और उनकी गांड को दबाने लगा। दोस्तों मैंने उसे छूकर महसूस किया कि उनकी वाह क्या मस्त मुलायम गांड थी और में उनकी पीठ पर हाथ फेरने लगा, उनकी पीठ मानो मुझे रुई सी एकदम मुलायम महसूस हो रही थी। फिर मैंने उनको वो मेक्सी उतारने का इशारा किया तो उन्होंने झट से उसको नीचे उतार दिया, अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी। फिर मैंने अपनी टी-शर्ट और लोवर को भी उतार दिया, में अब उनके सामने सिर्फ़ अंडरवियर में था और मेरा लंड किसी डंडे की तरह तनकर खड़ा हुए था। फिर मैंने झट से उनकी ब्रा को ऊपर किया और फिर तुरंत उनका एक बूब्स अपने मुहं में लेकर चूसने लगा और दूसरे बूब्स को ज़ोर से दबाने लगा। तभी मैंने देखा कि उन्होंने मेरे कहने से पहले ही जल्दी से अपनी पेंटी को उतार दिया और जैसे ही मैंने एक हाथ उनकी गरम, कामुक चूत पर रखा तो वो एकदम से सीहर उठी और अब में उस प्यासी चूत को सहलाने लगा और वो गरम होकर मदहोशी में मोन करने लगी। तभी मैंने छूकर महसूस किया कि उनकी चूत एकदम चिकनी, उभरी हुई और बहुत गोरी थी, उन्होंने शायद आज ही अपनी चूत की सफाई की होगी। फिर मैंने अपनी एक उंगली को उनकी चूत में डाल दिया और फिर धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा, लेकिन तभी उसने मेरा हाथ पकड़ा और अब वो मेरी ऊँगली को ज़ोर ज़ोर से अपनी चूत में दबाने लगी और ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी तो में अब तक जोश में आकर बहुत गरम हो गया था और अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने अपनी अंडरवियर को भी उतार दिया और फिर मैंने लंड को उसकी चूत पर रखकर एक ज़ोर का झटका दे दिया, लेकिन उनकी चूत बहुत टाईट थी और जिसकी वजह से वो फिसल गया। मैंने एक बार फिर से लंड को चूत के छेद पर रखकर एक ज़ोर का झटका दे दिया तो मेरा पूरा लंड उनकी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया और उनके मुहं से चीख निकल पड़ी, आआहह आईईईईईइ उह्ह्हह्ह्ह। फिर मैंने जोश में ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने शुरू किए और अब ज्यादा गरम होने की वजह से 20-25 धक्के मारकर में उनकी चूत में ही झड़ गया। अब हम थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे और वो मेरे लंड को मुहं में लेकर चूसने लगी, उसे सहलाने लगी और उसके साथ खेलने लगी, लेकिन उनकी चूत का पानी अभी भी नहीं निकला था।

फिर थोड़ी देर बाद मेरा लंड एक बार फिर से धीरे धीरे खड़ा होने लगा तो वो उठकर अपनी मेक्सी पहनकर किचन में पानी पीने चली गई और जब मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया तो में भी उठकर उनके पीछे पीछे किचन में चला गया। मैंने वहां पर जाकर देखा कि वो अपना मुहं दूसरी तरफ करके खड़ी हुई थी और में अचानक से जाकर उनके पीछे से चिपक गया और उनकी बगल के नीचे से अपने हाथ डालकर उनके बूब्स को दबाने लगा और अब कुछ देर बाद वो भी अपने दोनों हाथ पीछे करके मेरा लंड पकड़कर हिलाने लगी और जब में पूरी तरह से तैयार हो गया तो मैंने उनकी मेक्सी को कमर के ऊपर तक उठाया और अपना लंड पीछे से डालकर उनकी चूत पर रगड़ने लगा, अब वो फिर से गरम होने लगी थी। फिर मैंने उनको थोड़ा सा आगे की तरफ झुकाकर अपना लंड पीछे से ही उनकी चूत में डाल दिया और उनके दोनों बूब्स को कसकर पकड़कर धक्के मारने लगा और वो भी अब धीरे धीरे धक्के देने लगी और अपने दोनों हाथ किचन की पट्टी पर रखकर अपनी चूत को मेरे लंड पर दबाने लगी और उस चुदाई की वजह से उनके मुहं से आअहहहह उउम्म्म्म आईईईईइ जैसी आवाज़े निकालने लगी, वो अब मेरे हर एक धक्के के साथ और भी ज़्यादा उत्तेजित हो रही थी और मुझसे कह रही थी हाँ विक्की और ज़ोर से चोद उह्ह्ह्ह और ज़ोर से क्या तू प्यार करता है, अपनी भाभी से तो बुझा ले अपनी प्यास, चोद मुझे और ज़ोर से और मेरी चूत को भी ठंडा कर दे, आआहह उउम्म्म्म आहह दोस्तों उनकी इस मोनिंग से में और भी जोश में आ गया में अब और भी ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा और करीब दस मिनट के बाद वो बोली कि विक्की में अब झड़ने वाली हूँ और उनके मुहं से यह बात सुनकर मैंने और ज़ोर से धक्के मारना शुरू किया। तभी थोड़ी देर बाद उनका शरीर एकदम से अकड़ने लगा और वो मेरे लंड पर ही झड़ गई, लेकिन मेरा वीर्य अभी भी नहीं निकाला था, में उन्हें लगातार धक्के मारता रहा और करीब 15 मिनट के बाद मैंने एक बार फिर से उनकी चूत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और में उनके कंधे पर अपना मुहं रखकर ऐसे ही कुछ देर खड़ा रहा। फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने अपने कपड़े पहने और अब में भी पूरा नंगा था, उन्होंने मुझे एक लंबा लिप किस दिया और फिर वो मुझसे धन्यवाद कहकर अपने घर पर चली गई और जब मैंने टाईम देखा तो उस समय रात के करीब तीन बजे थे और में ऐसे ही दरवाजा बंद करके सो गया। दोस्तों उसके बाद हमने कुछ दिन और चुदाई के मज़े किए। हमें जब भी, जैसे भी, जहाँ भी मौका मिलता तो हम उस मौके को अपने हाथ से नहीं जाने देते और एक बार तो में देर रात को उनके घर में चुपके से जाकर उन्हें चोदकर आ गया, लेकिन उसके कुछ दिनों बाद मेरे कॉलेज की छुट्टियाँ खत्म होने वाली थी और फिर में वापस अपने कॉलेज चला गया, लेकिन में जितने भी दिन वहां पर रहा। मैंने हर एक दिन अपनी भाभी की चुदाई जरुर की, चाहे वो कैसे भी हालात रहे हो और उसे कुछ महीनो बाद उन्होंने मुझसे फोन पर बताया कि वो अब गर्भवती है और उन्होंने मुझसे इसके लिए धन्यवाद कहा और मेरे बाप बनने की ख़ुशी में मुझे बधाईयाँ भी दी और को भैया लग रहा था कि यह सब डॉक्टर की दवाईयों के असर के कारण हुआ है और कुछ दिन बाद भाभी ने एक बहुत प्यारी सी बेटी को जन्म दिया।

दोस्तों अभी भी जब भी हमे मौका मिलता है तो हम लोग चुदाई के बहुत मज़े लेते रहते है। दोस्तों यह थी मेरी भाभी की चुदाई और जिसमें मैंने उनको चोदकर अपने बच्चे की माँ बनाकर उन्हें वो ख़ुशी दी, जिसके लिए उन्होंने मुझसे बहुत बार धन्यवाद कहा और उसके बदले में वो आज भी मुझसे चुदवाती आ रही है और वो मेरी चुदाई से बहुत खुश रहती है और में उनकी चूत को चोदकर बहुत मज़े करते है ।।

 

(Visited 93 times, 8 visits today)